राष्ट्रीय - ’गगनयान’ के ’मैन मिशन’ की रूपरेखा तैयार, 16 मिनट में अंतरिक्ष पहुंचकर हफ्ता बिताएंगे तीन भारतीय

’गगनयान’ के ’मैन मिशन’ की रूपरेखा तैयार, 16 मिनट में अंतरिक्ष पहुंचकर हफ्ता बिताएंगे तीन भारतीय



Posted Date: 29 Aug 2018

37
View
         

देश के सबसे पहले हयूमन स्पेस प्रोग्राम पर जाने वाले तीन लोग श्री हरिकोटा से लांच के महज 16 मिनट में तीन भारतीय अंतरिक्ष में होंगे। श्री हरिकोटा से लांच होने के बाद पिछले 14 सालों से इनके अरब सागर में उतरने की तैयारी चल रही है। यहाँ ये 5-7 दिन बिताएंगे। 14 साल से चल रही इस तैयारी में 4 साल और लगेंगे। योजना के मुताबिक, 2022 तक भारत तीन अंतरिक्ष यात्रियों के साथ अपना पहला यान भेजेगा। इस योजना पर दस हजार करोड़ की लागत का अनुमान है।

इसरो के चेयरमैन के. सिवन ने बुधवार को मीडिया से बातचीत में यह जानकारी देते हुए कहा कि भारतीय अंतरिक्ष यात्री लो अर्थ आॅर्बिट (धरती से 300-400 किलोमीटर दूर) में 5-7 दिन बिताएंगे। इसके बाद गुजरात के अरब सागर में क्रू मेंबर और माॅडयूल वापस आ जाएंगे।

के. सिवन ने कहा कि पीएम मोदी की ओर से तय की 2022 की हेडलाइन में ही इसरो की ओर से गगनयान को लांच किया जाएगा।

बता दें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 15 अगस्त को लालकिले से इस योजना के बारे में एलान किया था। तीन विशेषज्ञ लोगों के चयन के बाद उन्हें 2 से 3 साल का प्रशिक्षण दिया जाएगा। अगर भारत अपने मिशन में कामयाब होता है तो ऐसा करने वाला वो दुनिया का मात्र चैथा देश हो जाएगा।

बता दें अब तक अमेरिका, रूस और चीन ने ही अंतरिक्ष में अपना मानवयुक्त यान भेजने में सफलता पाई है।

इसरो के प्रमुख के. सिवन ने कहा कि 16 मिनट में यान अंतरिक्ष में पहुंच जाएगा। यह सात दिन पृथ्वी की सतह से 300-400 किलोमीटर की ऊंचाई पर चक्कर लगायेगा। कुल तीन यात्री होंगे, जो माइक्रो ग्रेविटी एक्सपेरिमेंट करेंगे।

यह भी पढ़ें: शिवपाल ने किया समाजवादी सेक्युलर मोर्चे का गठन, इन नेताओं से किया जुड़ने का आह्वान

उन्होंने बताया कि इस मिशन पर दस हजार करोड़ रूपए खर्च होंगे। जो दुनिया के किसी भी मानव मिशन से कम है।

के. सिवन के मुताबिक आॅर्बिटल माॅडयूल के दो हिस्से होंगे। एक-क्रू माॅडयूल, दूसरा-सर्विस माॅडयूंल क्रू माॅडयूल 3.7 मीटर व्यास में एक सर्कुलर क्युबिकल जैसा होगा। जिसकी ऊंचाई 7 मीटर और वनज 7 टन होगा। इसी माॅडयूल में तीनों अंतरिक्ष यात्री रहेंगे। सर्विस माॅडयूल में तापमान और दबाव को बनाए रखने वाले प्रकरण, लाइफ सपोर्ट सिस्टम, आॅक्सीजन और खाने-पीने का सामान होगा।

यह भी पढ़ें: मोदी सरकार ने केंद्रीय कर्मचारियों को दी बड़ी सौगात, बढ़ाया 2 फीसदी महंगाई भत्ता


BY : Abdul Mannan


Loading...





Loading...
Loading...