अंतरराष्ट्रीय - गिरफ्तारी के बाद अमेरिकी दूतावास ने किया खुलासा, जानबूझकर ये बड़ा अपराध कर रहे थे भारतीय छात्र

गिरफ्तारी के बाद अमेरिकी दूतावास ने किया खुलासा, जानबूझकर ये बड़ा अपराध कर रहे थे भारतीय छात्र



Posted Date: 05 Feb 2019

2873
View
         

वाशिंगटन। नई दिल्ली में मौजूद अमेरिकी दूतावास का कहना है कि फेक यूनिवर्सिटी में दाखिला लेने के लिए हिरासत में लिए गए 129 भारतीयों समेत 130 विदेशी छात्रों को पता था कि वे धोखाधड़ी जैसा अपराध कर रहे हैं। इन 130 छात्रों को पिछले हफ्ते गिरफ्तार किया गया था। छात्रों पर आरोप है कि उन्होंने अमेरिका में रहने के लिए एक फेक यूनिवर्सिटी में दाखिला लिया। धोखाधड़ी का पता लगाने के लिए अमेरिकी गृह विभाग ने फारमिंगटन यूनिवर्सिटी बनाई थी।

विदेश विभाग के प्रवक्ता ने कहा, "सभी छात्रों को यह अच्छे से पता था कि फारमिंगटन यूनिवर्सिटी में न तो कोई पढ़ाने वाला है और न ही वहां किसी तरह की क्लासेस होती हैं। इतना ही नहीं, वहां ऑनलाइन पढ़ाने की सुविधा भी नहीं थी। छात्रों ने जानबूझकर अमेरिका में बने रहने के लिए अपराध किया।"

शनिवार को भारत सरकार ने अमेरिकी दूतावास को छात्रों की गिरफ्तारी को लेकर एक आपत्तिपत्र दिया था। इसमें छात्रों को तुरंत काउंसलर एक्सेस देने की बात कही गई थी। भारतीय विदेश मंत्रालय ने कहा था कि वह मामले पर नजर बनाए हुए है।

यह भी पढ़ें.. समझौता : दक्षिण कोरिया में 30 हजार सैनिकों की होगी तैनाती

अमेरिका स्थित भारतीय दूतावास सामुदायिक नेताओं के जरिए छात्रों की मदद करने की हरसंभव कोशिश कर रहा है। इसके लिए कानूनी सहायता भी ली जा रही है। रसूखदार भारतीय अमेरिकी और मीडिया संस्थान भी सरकार के इस तरह से छात्रों को गिरफ्तार करने पर सवाल उठा रहे हैं। इसे एक तरह से छात्रों को फंसाने वाला गैर-कानूनी काम करार दिया गया है।

इस रैकेट से जुड़े 8 अन्य लोगों को भी गिरफ्तार किया गया था। ये लोग भारतीय या भारतीय अमेरिकी नागरिक हो सकते हैं। फेक यूनिवर्सिटी के नियमों में कहा गया था कि यहां ट्यूशन फीस कम होगी और पहले एडमिशन लेने वाले करीब 600 छात्रों को वर्क परमिट दिया जाएगा। इसमें ज्यादातर भारतीयों ने दाखिला लिया।

यह भी पढ़ें.. वैश्विक मंच पर PAk उठा रहा कश्मीर मुद्दा, आज ब्रिटेन संसद में संबंधित कार्यक्रम


BY : Saheefah Khan




Loading...




Loading...