आजमगढ़ - बच कर जाएं तो कहां जाएं मुश्किल में फंसे अपराधी, पल-पल की गतिविधियों पर रहेगी ईगल की नज़र

बच कर जाएं तो कहां जाएं मुश्किल में फंसे अपराधी, पल-पल की गतिविधियों पर रहेगी ईगल की नज़र



Posted Date: 11 Feb 2019

3225
View
         

आज़मगढ़। बेखौफ अपराधियों का आंतक झेल रहा जिला अब अपराध मुक्त होगा। अपराधियों को सबक सिखाने के लिए प्रशासन ने पूरी तरह कमर कस ली है। इस कारण अपराध की दुनिया से नाता रखने वाले अपराधियों की खैर नहीं है। जिले में नए व पुराने अपराधियों पर नजर बनाये रखने के लिए पच्चीस ईगल मोबाइल दस्ता टीम गठित हो गई।

जिले में गठित 25 ईगल मोबाइल दस्ता टीम को डीआईजी विजय भूषण ने रविवार की दोपहर को पुलिस लाइन से हरी झंडी दिखाकर थानों के लिए रवाना किया। इसके गठित होने से जिले के जितने भी अपराधी हैं, उन सभी के गतिविधियों पर पुलिस की न केवल नजर रहेगी बल्कि दस्ते में शामिल सिपाही अपराधियों के घर पहुंच कर मोबाइल से उनकी वीडियों ग्राफी भी करेंगे। जरूरत पड़ने पर उन्हें थाने को मिले सीयूजी नंबर भी उपलब्ध करा कर त्रिनेत्र ऐप से जोड़ दिया जाएगा।

एसपी बबलू कुमार ने बताया कि इस दस्ता का नाम ईगल इसलिए रखा गया है ताकि अपराधियों पर गिद्ध की तरह नजर रहे। प्रत्येक दस्ता में दो -दो तेज तर्रार आरक्षी शामिल किए गए हैं। इन आरक्षियों को विशेष ट्रेनिंग दी गई है। उन्होंने कहा कि थाने की पुलिस के पास कई तरह के कार्य होते हैं। कार्य की अधिकता के चलते पुराने व नए अपराधियों की गतिविधियों पर वे नजर रखने के लिए समय नहीं दे पाते हैं।

यह भी पढ़ें.. सूख रही नदी और तालाबों के आएंगे अब अच्छे दिन, सरकार ने कसी कमर नहीं होगा जल संकट

इसलिए ईगल मोबाइल दस्ता का गठन किया गया है। इनका कार्य सिर्फ अपराधियों की गतिविधियों पर नजर रखने के साथ ही उनका डोजियर तैयार करना है, और उनके सभी गतिविधियों की सूचना समय-समय पर पुलिस अधिकारियों को उपलब्ध कराना है। डीसीआरबी के माध्यम से इस दस्ते की मानीटरिंग की जाएगी। ईगल मोबाइल दस्ता के गठन के बाद पुलिस को अपराधियों की जानकारी करने में काफी मदद मिलेगी।

यह भी पढ़ें.. जैसे ही अपनों को देखा छलक पड़े आंखो से आंसू, पैरोल पर घर पहुंचा था आंतकवाद का आरोपी शहज़ाद


BY : Saheefah Khan




Loading...




Loading...