राजनीति - ममता सरकार पर बीजेपी का टॉक अटैक, योगी की रैली से पहले पूछा- 'हाउ इज़ द खौफ?'

ममता सरकार पर बीजेपी का टॉक अटैक, योगी की रैली से पहले पूछा- 'हाउ इज़ द खौफ?'



Posted Date: 05 Feb 2019

3251
View
         

लखनऊ। लोकसभा चुनाव के मद्देनज़र भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) ने पश्चिम बंगाल का किला भेदने की अपनी कोशिशें तेज कर दी हैं। दो दिन पहले ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राज्य का दौरा कर जनसभा को संबोधित किया था। इस दौरान पीएम ने मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पर तीखा हमला बोला था। वहीं अब पार्टी ने अपने फायर ब्रांड नेता और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को बंगाल दौरे के लिए भेजा है।

वह आज राज्य के पुरुलिया में एक रैली को संबोधित करेंगे। योगी यहां भाजपा शासित झारखंड के रास्ते जा सकते हैं। मुख्यमंत्री कार्यालय ने बताया कि योगी मंगलवार को विशेष विमान के जरिए रांची के लिए रवाना होंगे। यहां से वह हेलिकॉप्टर के जरिए बोकारो जाएंगे और फिर सड़क मार्ग के जरिए बंगाल पहुंचेंगे।

बीजेपी ने ममता सरकार पर कसा तंज

उधर, योगी आदित्यनाथ की बंगाल रैली से पहले बीजेपी ने ममता सरकार पर तंज कसा है। बीजेपी ने टीएमसी सरकार से पूछा है कि हाउ इज द खौफ? बीजेपी की तरह से यह सवाल यूपी सरकार के इकलौते मुस्लिम मंत्री किया है। उन्होंने सर्जिकल स्ट्राइक पर बनी फिल्म उरी के प्रसिद्ध डायलॉग के अंदाज में तृणमूल से पूछा कि हाउ इज द खौफ? यानी डर कैसा है? पार्टी का मानना है कि टीएमसी द्वारा योगी को रोके जाने से आने वाले आम चुनाव में पार्टी को फायदा होगा।

बता दें कि दीदी के नाम से जानी जाने वाली ममता बनर्जी भाजपा के निशाने पर तब आ गई थी जब उन्होंने रविवार को योगी के हेलिकॉप्टर के लैंडिंग से इनकार कर दिया था।

योगी ने कहा- रैली रोककर मेरी आवाज नहीं दबा सकती ममता सरकार

दरअसल, रविवार को पश्चिम बंगाल में रैली की इजाजत नहीं मिलने के बाद योगी आदित्यनाथ ने दूसरा रास्ता निकाला था। दोनों ही जनसभा में भारी भीड़ आने के बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ मोबाइल फोन से रैली को संबोधित किया था।

यह भी पढ़ें.. ममता बनर्जी को SC का बड़ा झटका, चहेते अफसर राजीव कुमार को CBI के समक्ष पेश होने का आदेश

मुख्यमंत्री आदित्यनाथ ने कहा था कि बंगाल में जनविरोधी तृणमूल कांग्रेस सरकार के दिन गिने-चुने रह गए हैं। उन्होंने कहा था कि मुझे रैली में शामिल नहीं होने दिया, लेकिन वे मेरी आवाज नहीं दबा सकते।

यह भी पढे़ं.. पर्रिकर का यह एक फैसला पड़ सकता है भारी, खड़ा हो सकता है राजनीतिक संकट


BY : shashank pandey




Loading...




Loading...