राष्ट्रीय - गुजरात नरंसहार के दोषी बाबू बजरंगी का स्वास्थ्य ख़राब, सर्वोच्च न्यायालय ने दी ज़मानत

गुजरात नरंसहार के दोषी बाबू बजरंगी का स्वास्थ्य ख़राब, सर्वोच्च न्यायालय ने दी ज़मानत



Posted Date: 07 Mar 2019

901
View
         

नई दिल्ली। 2002 में हुए गुजरात दंगों में नरसंहार को कोई भुला नहीं सकता। इसी दंगे में कांग्रेस सांसद एहसान जाफरी की परिवार सहित हत्या कर दी गई थी। उसके अलावा कई और जगहों पर कत्लेआम हुआ था जिसमें नरोदा पाटिया कत्लेआम भी शामिल है। इसमें 97 मुसलमानों की हत्या कर दी गयी थी जिसमें अधिकतर ऐसे लोग थे जो अलग-अलग जगहों से आकर गुजरात में दिहाड़ी पर काम करते थे। इस हत्याकांड का मास्टर माइंड बाबू बजरंगी था जिसे आजीवन कैद की सज़ा सुनाई गई थी।

आज सुप्रीम कोर्ट ने नेता बाबू बजरंगी को ख़राब स्वास्थ्य के आधार पर ज़मानत दे दी है। बाबू बजरंगी अभी तक जेल में था और अपनी सज़ा काट रहा था। सुप्रीम कोर्ट में जस्टिस एएम खनविलकर की अध्यक्षता वाली बेंच ने सुनवाई के बाद यह आदेश पास किया है। इस बेंच ने बजरंगी को सशर्त ज़मानत दी है। बजरंगी ने गुजरात हाई कोर्ट के फ़ैसले को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी थी और ख़राब सेहत के आधार पर ज़मानत की मांग की थी।

इससे पहले गुजरात हाई कोर्ट ने अपने हाल के आदेश में इन 32 लोगों में से 18 लोगों को बरी कर दिया था। दंगे में मारे गए अधिकांश मुसलमान कर्नाटक के गुलबर्ग से थे और दिहाड़ी मजदूर के तौर पर काम करते थे। 2002 से अब तक उनमें से कई पीड़ित परिवार नरोदा पाटिया से चले गए। इस मामले में माया कोडनानी को भी दोषी ठहराया गया था। नरेंद्र मोदी जब गुजरात के मुख्यमंत्री थे तो माया कोडनानी उनके मंत्रिमंडल में थीं।

यह भी पढ़ें.. लखनऊ : ‘भगवा आतंकवाद’ का शिकार बने दो कश्मीरी, पुलिस के हत्थे चढ़ा ‘विश्व हिंदू दल’ का एक ‘कार्यकर्ता’

नरोदा पाटिया क़त्लेआम 28 फ़रवरी 2002 को अहमदाबाद के नरोदा में हुआ था। इसमें 97 मुसलमानों की हत्या कर दी गई थी। बजरंग दल और विश्व हिन्दू परिषद से जुड़े लोगों की भीड़ ने इस क़त्लेआम को अंजाम दिया था। स्थानीय पुलिस और सुप्रीम कोर्ट की नियुक्त विशेष जांच टीम ने 62 लोगों को अभियुक्त बनाया था। इनमें से 32 लोगों को निचली अदालत ने दोषी क़रार दिया था।

यह भी पढ़ें.. चौथी की छात्रा पानी की जगह बोतल में लाई ‘मौत का सामान’, पीते ही साथी की हुई मौत


BY : Saheefah Khan




Loading...




Loading...