राजनीति - CBI ने खोला चिटफंड घोटाला से जुड़ा ‘पॉलिटिकल लिंक’, बताया क्यों आरोपियों के बचाव में शामिल हुए राजीव कुमार

CBI ने खोला चिटफंड घोटाला से जुड़ा ‘पॉलिटिकल लिंक’, बताया क्यों आरोपियों के बचाव में शामिल हुए राजीव कुमार



Posted Date: 06 Feb 2019

1809
View
         

नई दिल्ली। चिटफंड घोटाला मामले की जांच के दौरान देश की सबसे बड़ी जांच एजेंसी सीबीआई के हाथ कुछ ऐसा लगा, जिससे केस का सारा रुख महज घोटाला तक सीमित नहीं रहा, बल्कि इसमें बड़े सियासी खेल के होने का अंदेशा होने लगा। जांच में शामिल सीबीआई अधिकारियों का दावा है कि मामले में शामिल आरोपियों के तार पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी तक जाते हैं। साथ ही यह बताया जा रहा है कि चिटफंड घोटाला के आरोपियों ने ममता को चंदे के रूप में एक मुस्त बड़ी रकम हैंडओवर की। जिसके एवज में कोलकाता के पुलिस कमिश्नर राजीव कुमार आरोपियों का बचाव करने में जुटे थे।

बता दें कुमार पर आरोप लगाया गया कि, “28.6.2018 को सीबीआई सीडीआर में सबूत सौंपने के दौरान सबूतों से छेड़छाड़ की गई और उन्हें नष्ट किया गया। हलफनामे में आरोप लगाया गया कि उच्चतम न्यायालय द्वारा 9 मई 2014 को एजेंसी को जांच सौंपे जाने के बाद भी, “कुमार एसआईटी द्वारा एकत्र किए गए सबूतों के साथ जांच सामग्री के साथ हिस्सा नहीं ले रहे थे”।

खबरों के मुताबिक़ पश्चिमी बंगाल में राजीव कुमार की अगुवाई में एक स्पेशल इनवेस्टिगेशन टीम (एसआईटी) बनाई गई थी। यह एसआईटी चिटफंड घोटाले की जांच कर रही थी। शारदा, मेसर्स रोज वैली और टॉवर ग्रुप आदि कंपनियां पर चिटफंड घोटाले का आरोप है।

बताया जा रहा है कि राजीव कुमार उस समय इन कंपनियों का बचाव कर रहे थे। राजीव कुमार अभी कोलकाता के पुलिस कमिश्नर हैं। कहा यह भी जा रहा है कि इन आरोपियों ने ममता बनर्जी की पार्टी टीएमसी को चंदा दिया था।

सुप्रीम कोर्ट में मंगलवार को अपने अतिरिक्त हलफनामे में इसे रिकॉर्ड पर डालते हुए, सीबीआई ने आरोप लगाया कि कुमार ने एक प्रमुख आरोपी के कॉल डेटा रिकॉर्ड के साथ छेड़छाड़ की और नष्ट कर दिया, रोज वैली के खिलाफ दर्ज एफआईआर को दबा दिया और सबूत वापस ले लिये।

पहली नजर में देखें तो कुमार ने भ्रष्टाचार निरोधक अधिनियम और अन्य आईपीसी के अपराधों के तहत अपराध किए हैं। हालांकि कुमार ने इन चिट फंड कंपनियों की एसआईटी जांच में गड़बड़ी से इनकार किया है।

यह भी पढ़ें : भाजपा से जंग में अपग्रेड हुई मायावती, कांटे की टक्कर देने के लिए सोशल मीडिया में रखा पहला कदम

मंगलवार को सुप्रीम कोर्ट द्वारा सीबीआई के साथ सहयोग करने का निर्देश देने के घंटों बाद, उन्होंने एजेंसी को लिखा कि वह 8 फरवरी को शिलांग में अधिकारियों से मिलने के लिए तैयार हैं।

अपने हलफनामे में, सीबीआई एसपी पार्थ मुखर्जी ने कहा कि कोलकाता में रजिस्टर “शारदा चिट फंड” में कुमार की “प्रथम भूमिका” की जांच की जा रही है। एजेंसी ने दावा किया कि उसने इससे जुड़े सबूत जुटाए हैं, इसमें सीनियर पुलिस अधिकारियों और सीनियर नेताओं के पत्र आदि हैं। इन्हें कोर्ट के सामने सील बंद लिफाफे में पेश करने की अनुमति मांगी गई है।

यह भी पढ़ें : राजनीति में हुई 'अंगूरी भाभी' की एंट्री, थामा कांग्रेस का 'हाथ'


BY : Ankit Rastogi




Loading...




Loading...