राष्ट्रीय - हर घर तक पहुंच गई बिजली... फिर भी अंधेरे में गुजर कर रहे करोड़ों परिवार!

हर घर तक पहुंच गई बिजली... फिर भी अंधेरे में गुजर कर रहे करोड़ों परिवार!



Posted Date: 30 Aug 2018

29
View
         

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 28 अप्रैल को यह कहते हुए अपनी पीढ थपथपाना शुरू किया कि हर घर तक बिजली पहुँचाने का जो लक्ष्य 1000 दिनों में पूरा करने के लिए सुनिश्चित किया गया था, उसे उनकी सरकार ने 988वें दिन में ही पूरा कर लिया। गांव-गांव ही नहीं बल्कि मोदी सरकार ने हर घर तक बिजली को पहुंचा दिया। मोदी सरकार का यह दावा कितना सही है, ये एक विचारणीय प्रश्न है। यदि आंकड़ों की माने तो हकीकत इससे कहीं उलट नज़र आती है।

खबरों के मुताबिक़ लगभग 23 मिलियन ग्रामीण घरों में अभी भी बिजली नहीं है। दो लाख 92 हजार गांवों पर किया गया इंडियास्पेंड विश्लेषण दिखाता है कि मोदी सरकार द्वारा किया गया ये दावा केवल बोलने मात्र के लिए है। असल हकीकत अभी भी उम्मीद से कहीं अलग है।

रिपोर्ट के अनुसार उत्तर प्रदेश के 12 मिलियन से अधिक अनगिनत परिवार अभी भी ऐसे हैं, जो अंधेरों में गुजर बसर करने को मजबूर हैं। वहीं असम में 1.9 मिलियन और ओडिशा के 1.8 मिलियन परिवार बिजली की पहुंच से कोसों दूर हैं।

बता दें ये आंकड़े चौंकाते जरूर हैं, लेकिन आज भारत इस दिशा में एक लंबा सफर तय कर चुका है। आज 85% नागरिकों के घरों में बिजली की पहुंच है, जो कभी केवल 43% घरों तक ही सीमित हो जाया करती थी।

सरकार ने हाल ही में सभी 597,464 गांवों को विद्युतीकरण के अपने लक्ष्य को हासिल किया। बता दें एक गांव को तब "विद्युतीकृत" समझा जाता है, जब उसके 10% घर, और स्कूलों और स्वास्थ्य केंद्रों जैसे सार्वजनिक संस्थानों के पास बिजली की पहुंच हो।

यह भी पढ़ें : कम्बल वाले बाबा के प्रताप से ‘चुनावी किला’ फतेह करेगी बीजेपी! खर्च होंगे 3 करोड़

कारण यह है कि केंद्रीय विद्युत मंत्रालय ने फरवरी 2004 में विद्युतीकृत गांव की नई परिभाषा दी जिसके तहत उस गांव या दलित बस्ती को विद्युतीकृत मान लिया जाएगा, जहां ट्रांसफार्मर या बिजली की लाइन पहुंच गयी है और जहां कम से कम 10 प्रतिशत घरों में बिजली आ गयी है।

साथ ही स्कूल, पंचायत कार्यालय, स्वास्थ्य केंद्र, डिस्पेंसरी और सामुदायिक केंद्र पर बिजली पहुंचने पर भी गांव को विद्युतीकृत माना जाएगा।

यह भी पढ़ें : SEBI के निशाने पर ये 4 कंपनियां, 16 संपत्तियां नीलाम कर वसूलेगा आम जनता का पैसा

इस लिहाज से देखें तो देश में 5,97,464 जनगणना गांव हैं और अब इन सभी को विद्युतीकृत किया जा चुका है।


BY : Ankit Rastogi


Loading...





Loading...
Loading...