राष्ट्रीय - आर्टिकल 35 ए पर सुनवाई आज, कोर्ट ले सकती है ये अहम फैसला, घाटी में बंद का आह्वान

आर्टिकल 35 ए पर सुनवाई आज, कोर्ट ले सकती है ये अहम फैसला, घाटी में बंद का आह्वान



Posted Date: 31 Aug 2018

18
View
         

नई दिल्ली। शुक्रवार को जम्मू-कश्मीर को विशेष अधिकार देने वाले आर्टिकल 35 ए पर सुनवाई होने वाली है। कोर्ट इस बारे में अहम फैसला लेते हुए मामले को संविधान पीठ में भी भेज सकती है। चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा की अध्यक्षता में तीन जजों की बेंच यह सुनवाई करेगी। 35 ए पर सुनवाई के चलते घाटी में अलगाववादियों ने बंद का आह्वान किया है। जिसके चलते कश्मीर में पुलिस द्वारा सुरक्षा-व्यवस्था चाक-चौबंद कर दी गई है। इससे पहले भी 27 अगस्त को मामले पर कोर्ट में सुनवाई होनी थी, जोकि नहीं हो सकी। वहीं मामले पर 6 अगस्त को हुई सुनवाई में कोर्ट ने इस पर कई तरह के सवाल पूछे थे। इसके अलावा मामले को संविधान पीठ में भेजा जाना चाहिए या नहीं, इस पर भी कोर्ट द्वारा सवाल किया गया था। कोर्ट आज इस पर कोई निर्णय ले सकती है।

अनुच्छेद 35 A जम्मू-कश्मीर को राज्य के रुप में देता है विशेष अधिकार

अनुच्छेद 35 A जम्मू-कश्मीर को राज्य के रुप में विशेष अधिकार देता है। इसके तहत इस राज्य के बाहर का कोई निवासी न तो यहां कोई भी जमीन खरीद सकता है और न ही यहां का स्थाई निवासी बनकर रह सकता है। इसके अलावा 35 A के तहत यहां की राज्य सरकार को भी यह अधिकार मिलता है कि आजादी के बाद बाहर से आए शरणार्थियों व अन्य लोगों को वह अपने राज्य की सुविधाएं दें या फि न दे।

यह भी पढ़ें : जम्मू-कश्मीर : आतंकियों के निशाने पर पुलिसकर्मियों के परिजन, 24 घंटों में 8 अगवा, हाई अलर्ट घोषित

35A, को लेकर 14 मई 1954 को तत्कालीन राष्ट्रपति डॉ. राजेंद्र प्रसाद ने एक आदेश पारित किया था। इस आदेश के जरिए भारत के संविधान में एक नया अनुच्छेद 35A जोड़ दिया गया। 35 A का मसला जम्मू-कश्मीर से जुड़ा होने के कारण हमेशा से संवेदनशील रहा है। पिछली बार हुई इस मामले की सुनवाई के दौरान अलगाववादियों ने घाटी में बंद का आह्वान किया था।

यह भी पढ़ें : लेटेस्ट टेक्नोलॉजी के साथ इस ख़ास उद्योग को बढ़ावा देने के लिए देश ने बढ़ाया पहला कदम

 


BY : INDRESH YADAV


Loading...





Loading...
Loading...