राष्ट्रीय - नोबेल पुरस्कार विजेता अमर्त्य सेन ने कहा- 2019 में बीजेपी को हराना होगा, भाजपा ने दिया ये जवाब

नोबेल पुरस्कार विजेता अमर्त्य सेन ने कहा- 2019 में बीजेपी को हराना होगा, भाजपा ने दिया ये जवाब



Posted Date: 27 Aug 2018

26
View
         

नई दिल्ली। नोबेल पुरस्कार विजेता अमर्त्य सेन ने बीते रविवार 2019 के लोकसभा चुनावों में बीजेपी को हराने की बात कही। उन्होंने कहा कि सभी गैरसांप्रदायिक ताकतों को एकसाथ मिलकर आगामी चुनावों में आगे आना चाहिए। क्योंकि लोकतंत्र खतरे में है। सेन के इस बयान के बाद अब बीजेपी ने इस पर पलटवार किया है। पश्चिम बंगाल प्रदेश भाजपा अध्यक्ष दिलीप घोस ने मामले पर कहा कि सेन जैसे लोग समाज को हमेशा गलत दिशा में ही ले गए हैं। उन्होंने सेन की तुलना ऐसे लोगों से की जिन्होने समाज को गुमराह करने का काम किया है। घोष ने कहा कि वर्तमान समय में सेन जैसे लोगों का कोई खास महत्व नहीं है। हमेशा वाम विचारधारा का अनुसरण करने वाले सेन जैसे बुद्धिजीवी लोग वास्तविकता से दूर हो रहे हैं।

गलत इरादों की बदौलत पार्टी सत्ता में आई

नोबल पुरस्कार विजेता अमर्त्य सेन ने इस बार कोलकाता में अपने दौरे के दौरान कहा कि वर्ष 2014 के लोकसभा चुनावों में पार्टी को महज 31 प्रतिशत वोट मिले और राजनीति में अपने गलत इरादों की बदौलत पार्टी सत्ता में आई। सेन ने यहां के शिशिर मंच सभागार में कहा सवाल-जवाब सत्र के दौरान कहा कि वर्ष 2014 में चुनावों में क्या हुआ, एक पार्टी जिसे 55 प्रतिशत सीटें मिलीं, लेकिन वास्तव में उसने कुल मतों का महज 31 प्रतिशत मत पाया, वो सत्ता में आई, एक गलत इरादों वाली पार्टी।

यह भी पढ़ें : मोदी को मनमोहन की चिट्ठी, कहा- नेहरु से जुड़ी यादें न मिटाएं

सेन ने इस दौरान लोकतंत्र को खतरे में बताते हुए कहा कि सभी गैर सांप्रदायिक ताकतों को 2019 के चुनावों में एक साथ आना चाहिए। उन्होंने वामदलों को भी इसके लिए न हिचकने को कहा।

यह भी पढ़ें : केरल त्रासदी पर बोले बीजेपी विधायक, खुलेआम गाय काटने की वजह से हुआ विनाश

उन्होंने कहा कि हमें निश्चित रूप से निरंकुशता के विरुद्ध विरोध जताना चाहिए। हमें निश्चित रूप से उनकी निरंकुश प्रवृत्तियों के खिलाफ लड़ना चाहिए। हमें निश्चित रूप से उन मुद्दों की आलोचना करनी चाहिए जहां हमें गैर-सांप्रदायिक दक्षिणपंथी ताकतों के विरोध की आवश्यकता हो। लेकिन जब बात सांप्रदायिकता से लड़ने की आये तो हमें बिल्कुल अपने हाथ पीछे नहीं खींचने चाहिए, जो आज सबसे बड़ा खतरा बन गया है।


BY : INDRESH YADAV


Loading...





Loading...
Loading...