अंतरराष्ट्रीय - ट्रंप के पूर्व सहयोगी पॉल मैनफोर्ड को कोर्ट से बड़ा झटका, इस मामले में मिली 47 महीने की सज़ा

ट्रंप के पूर्व सहयोगी पॉल मैनफोर्ड को कोर्ट से बड़ा झटका, इस मामले में मिली 47 महीने की सज़ा



Posted Date: 08 Mar 2019

249
View
         

वॉशिंगटन। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के पूर्व प्रचार प्रमुख पॉल मैनफोर्ड की मुसीबतें कम होने का नाम नहीं ले रही हैं। दरअसल, मैनफोर्ड पर हाल में टैक्स चोरी करने और बैंक धोखाधड़ी का आरोप लगा था। विवाद बढ़ने पर यह मामला अदालत तक पहुंचा। इसके बाद केस की सुनवाई शुरु हुई। गुरुवार को अदालत ने मैनफोर्ड को कर चोरी और बैंक धोखाधड़ी के मामले में 47 महीने कैद की सजा सुनाई है।

मैनफोर्ड को उम्मीद से कम मिली सजा

हालांकि, उन्हें उम्मीद से कम सजा सुनाई दी गई है। इसको लेकर भी सवाल किये जा रहे हैं। समाचार एजेंसी सिन्हुआ की रिपोर्ट के मुताबिक, अभियोजकों ने उन्हें 19.5 से 24 साल के बीच कैद की सजा सुनाए जाने की सिफारिश की थी। लेकिन उन्हें इससे कम सजा सुनाई गई। वर्जिनिया में गुरुवार को एक संघीय अदालत में विशेष अधिवक्ता रॉबर्ट मुलर के एक अटॉर्नी ने कहा कि मैनफोर्ड जिम्मेदारी स्वीकार करने में नाकाम रहे और उन्हें अपने किए पर पछतावा नहीं है।

अदालत में बोले मैनफोर्ड

मैनफोर्ड ने अमेरिकी डिस्ट्रिक्ट जज टी.एस. इलियट की अदालत में कहा, ‘पिछले दो साल मेरी जिंदगी में सबसे कठिन रहे हैं। यह कहना काफी नहीं होगा कि मैं शर्मिदा हूं और अपमानित महसूस कर रहा हूं।’ आपको बता दें कि मैनफोर्ड के खिलाफ 2016 राष्ट्रपति चुनाव में रूसी हस्तक्षेप और ट्रंप की प्रचार टीम के साथ सांठगांठ की संभावना के संबंध में मुलर द्वारा जारी जांच के तहत आरोप सामने आए थे।

यह भी पढ़ें.. अफगानिस्तान की महिलाओं में सशक्तिकरण की आस जगाने वाली फख़्रिया इस ऐप के लिए कर रहीं दिन रात मेहनत

स्वयं मैनफोर्ड एक अदालत में स्वीकार किया था कि  उन्होंने मुहिम के मतदान संबंधी आंकड़े खुफिया विभाग से जुड़े रूस के एक नागरिक को मुहैया कराए थे। इसको लेकर काफी विवाद और हंगामा भी खड़ा हुआ था। हालांकि, रूस इस आरोप को खारिज करता रहा है।

यह भी पढ़ें.. डोनाल्ड ट्रम्प के स्कूल ने खोली उनके पढ़ाई की पोल, पूर्व निजी वकील ने भी बताया पूरा सच


BY : shashank pandey




Loading...




Loading...