अंतरराष्ट्रीय - सोलोमन द्वीप के समुंद्र में बहा 80 टन तेल, खाने और पीने के पानी के लिए तरस रहें लोग

सोलोमन द्वीप के समुंद्र में बहा 80 टन तेल, खाने और पीने के पानी के लिए तरस रहें लोग



Posted Date: 08 Mar 2019

2200
View
         

होनियारा। सोलोमन द्वीप के पास स्थित रेनेल द्वीप में उस वक़्त तबाही मच गई, जब एक टैंकर से अचानक 80 टन तेल बह गया। इसके चलते स्थानीय लोगों की जिंदगी रुक सी गई है। तेल का रिसाव अब भी वहां जारी है। इस आपदा को इतिहास की सबसे बड़ी मानवनिर्मित आपदा बताई जा रही है।

सोलोमन द्वीप छह प्रमुख द्वीप में से है। यह द्वीप प्रशांत महासागर में स्थित है। यह एक तरह का एटाल है जो मूंगे की चट्टान पर बसा है। अधिकारीयों का मानना है कि करीब चार हफ्ते पहले तेल से भरा हुआ जहाज एमवी सोलोमंस ज्वार की चपेट में आ गया था। एक हफ्ते के बाद जब जहाज को निकला गया तो जहाज में गहरी खरोंच लग गई थी। जिससे तेल का रिसाव होने लगा था।

 

अब द्वीप पर रहने वाले लोग मुश्किल का सामना कर रहे हैं। वहां के लोगों ने बताया कि तेल झरने के पानी से मिल गया है। जिसके बाद से लोगों के पास न पीने का पानी है और ना ही नहाने का। अगर जल्द ही तेल के रिसाव पर काबू नहीं पाया गया तो कई लोग मर सकते हैं।

स्थानीय आपदा अफसर का कहना है कि अगर रिसाव को जल्द से जल्द नहीं रोका गया तो वह ईस्ट रेनेल तक पहुंच सकता है। ईस्ट रेनेल खास तरह की बड़ी झील और घना जंगल है। जिसके चलते जंगल ख़राब हो सकता है।

रेनेल द्वीप पर रहने वाले पाल नील ने सरकार से गुहार लगाई है कि जल्द से जल्द इस आपदा से हमें बचाया जाए। इस आपदा की वजह से मछलियां भी मर चुकी है जिससे लोगों के पास खाने को भी कुछ नहीं बचा है। द्वीप पर रहने वाले लोग लगातार बीमार भी पड़ रहें है।

आस्ट्रेलिया सरकार का कहना है कि समुंद्र से तेल सफाई का काम चल रहा है। लोगों को बचाने के लिए हर तरह का रेस्क्यू भी चलया जा रहा है।

Read Also -

ट्रंप के पूर्व सहयोगी पॉल मैनफोर्ड को कोर्ट से बड़ा झटका, इस मामले में मिली 47 महीने की सज़ा

अफगानिस्तान की महिलाओं में सशक्तिकरण की आस जगाने वाली फख़्रिया इस ऐप के लिए कर रहीं दिन रात मेहनत


BY : Abdul Mannan




Loading...




Loading...