कारोबार - खुशखबरी: RBI ने डेढ़ साल बाद घटाया रेपो रेट, अब कर्ज होंगे सस्ते, किसानों को भी मिला बड़ा तोहफा

खुशखबरी: RBI ने डेढ़ साल बाद घटाया रेपो रेट, अब कर्ज होंगे सस्ते, किसानों को भी मिला बड़ा तोहफा



Posted Date: 07 Feb 2019

1825
View
         

नई दिल्ली। रिज़र्व बैंक ऑफ इंडिया (आरबीआई) के गवर्नर शक्तिकांदत दास की अध्यक्षता में हुई मौद्रिक नीति समित (एमपीसी) की बैठक में ब्याज दरों में कटौती का फैसला किया गया है। बैठक में एमपीसी ने करीब देढ़ साल बाद रेपो रेट में 0.25 फीसदी की कटौती की। छह सदस्यीयय एमपीसी ने 4-2 की बहुमत के साथ रेपो रेट को 25 बेसिस प्वाइंट (0.25 फीसदी) तक कम करने पर सहमति जताई है। इसके बाद अब यह दर 6.50 प्रतिशत से घटाकर 6.25 प्रतिशत हो गया है।

होम लोन होगा सस्ता

केंद्रीय बैंक द्वारा रेपो रेट में कटौती का फायदा आम आदमी को भी मिलने वाला है। दरअसल, ब्याज दरों में कटौती का सीधी असर बैंक द्वारा दिए जाने वाले होम लोन पर देखने को मिलेगा। रेपो रेट कम होने के कारण बैंक भी गृह ऋण की ब्याज दरों में कटौती का ऐलान कर सकते हैं। ब्याज दर में कटौती से लोगों की EMI कम होगी। क्योंकि अब बैंकों को आरबीआई से सस्ती फंडिंग मिलेगी, जिसका सीधा असर बैंक लोन पर पड़ेगा।

किसानों को बड़ी राहत

आरबीआई गवर्नर ने छोटे किसानों को भी राहत देने का ऐलान किया है। उन्होंने ऐसे किसानों को मिलने वाले कॉलेटरल (लोन के एवज में रखवाई जाने वाली संपत्ति) फ्री लोन की सीमा बढ़ाने की घोषणा की है। इसका मतलब अब किसानों को 1.60 लाख रुपए तक के लोन पर जमीन गिरवी रखने की जरूरत नहीं होगी। आरबीआई के इस फैसले से देश के 12 करोड़ किसानों को लाभ पहुंचने की उम्मीद है।

यह भी पढ़ें.. SBI अपने ग्राहकों को करेगा मालामाल, इस प्रतियोगिता में जीतने वाले को मिलेंगे लाखों रुपए, जानें कैसे

क्या होता है रेपो रेट?

दरअसल, रेपो रेट वह दर है, जिस पर आरबीआई बैंकों को ब्याज देता है। इसमें कमी से लोन सस्ते होने की उम्मीद बढ़ गई है। यह बैंकों पर निर्भर करेगा कि वो रेपो रेट में कमी का फायदा ग्राहकों को कितना और कब तक देते हैं। बैंकिंग सेक्टर के एक्सपर्ट अश्विनी राणा के मुताबिक रेपो रेट में कमी से एफडी की दरों पर कोई असर पड़ने की उम्मीद नहीं है।

यह भी पढे़ं.. लगातार घाटे का दंश झेलने के बाद माइक्रोसॉफ्ट को पछाड़ एप्पल पहुंची टॉप पर, अमेज़न तीसरे नंबर पर


BY : shashank pandey




Loading...




Loading...