राष्ट्रीय - नोटबंदी का वो सच, जो पैरों तले खींच लेगा जमीन, उम्मीद से भी बाहर RBI के ये आंकड़े

नोटबंदी का वो सच, जो पैरों तले खींच लेगा जमीन, उम्मीद से भी बाहर RBI के ये आंकड़े



Posted Date: 31 Aug 2018

29
View
         

नई दिल्ली। मोदी सरकार द्वारा लिया गया एक बेहद महत्वपूर्ण फैसला नोटबंदी शुरु से ही सवालों के घेरे में रहा है। कुछ लोग जहां इसे देश हित में बताते हैं तो, वहीं कुछ का मानना है कि यह फैसला ठीक नहीं रहा। देश से काला धन बाहर निकालने के अलावा नकली नोटों पर लगाम लगाने के उद्देश्य से मोदी सरकार द्वारा लिए गए इस फैसले पर आरबीआई की रिपोर्ट ने एक और प्रश्नचिन्ह लगा दिया है। बीते बुधवार भारतीय रिजर्व बैंक ने पूरे देश की वार्षिक रिपोर्ट जारी कर दी है। इस रिपोर्ट के मुताबिक, नए नोटों में नकली नोटों की संख्या में बेतहाशा वृद्धि हुई है। रिपोर्ट के मुताबिक, एक तरफ जहां 500 रुपए के नए नोटों में नकली नोटों की संख्या 50 फीसदी बढ़ी है। वहीं दूसरी तरफ 2000 के नए नोटों में यह वृद्धि 28 फीसदी तक पहुंच गई है।

जानिए क्या कहती है रिजर्व बैंक की रिपोर्ट

मीडिया रिपोर्टसे के मुताबिक, रिजर्व बैंक की इस संबंध में रिपोर्ट बताती है कि 2017-18 वित्तीय वर्ष में 50 और 100 रुपये के नकली नोटों में पिछले दो वित्तीय वर्षों की अपेक्षा रिकॉर्ड बढ़ोतरी देखी गई है।रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया की 2017-18 की वार्षिक रिपोर्ट के मुताबिक, 50 रुपये के नकली नोटों में 154.3 प्रतिशत की बढ़ोतरी देखी गई। 2015-16 में 6453 और 2016-17 में 9222 नोटों के मुकाबले 2017-18 में 23,447 नकली नोटों के मामले सामने आए।

आरबीआई के मुताबिक 100 रुपये के नकली नोटों की संख्या 2017-18 में 2,39,182 है। जोकि बीते वर्ष से करीब 35 प्रतिशत अधिक है। 2016-17 इनकी संख्या 1,77,195 थी, तो वहीं 2015-16 में 2,21,447 थी।

आरबीआई की ओर से कहा गया कि 2017-18 के दौरान, बैंकिंग व्यवस्था में 5,22,783 कुल नोट नकली पाए गए। जिनमें से 63.9 प्रतिशत की पहचान विभिन्न बैंकों द्वारा की गई। इसके अलावा, कुल नकली नोटों में आरबीआई द्वारा पहचाने गए नोटों की संख्या 36.1 प्रतिशत रही, जबकि पिछले साल उसके द्वारा यह संख्या 4.1 प्रतिशत थी। यहां यह भी एक महत्वपूर्ण बात है कि आरबीआई के इन आंकड़ों में पुलिस द्वारा जब्त किए गए नकली नोटों की संख्या शामिल नहीं है।

इस तरह पहचानें कहीं आपके पास भी नकली नोट तो नहीं

नकली नोटों को पहचानने के कुछ आसान तरीके हैं। इन तरीकों से आप पता लगा सकते हैं कि कहीं आपके पास भी तो नकली नोट नहीं है।

सभी असली नोटों की लेफ्ट साइड पर महात्मा गांधी का हल्का शेडेड वॉटर मार्क होता है । जब आप नोट को तिरछा करेंगे तो इस वाटर मार्क में अलग-अलग दिशाओं में जाने वाली लाइनें दिखेंगी। इसके साथ ही अंकों में नोट का मूल्य भी लिखा होता है।

यह भी पढ़ें : IRCTC घोटाला मामले में लालू परिवार को बड़ी राहत, तेजस्वी-राबड़ी को मिली जमानत

इसके अलावा सिक्योरिटी थ्रेड असली नोटों को पहचानने का बहुत ही भरोसेमंद तरीका है। यह थ्रेड महात्मा गांधी की फोटो के लेफ्ट साइड में होता है, जिस पर भारत और आरबीआई लिखा होता है। याद रखें कि 5 से 50 रुपये के नोटों के तार पर केवल भारत छपा होता है।

20 रुपये और उससे अधिक मूल्य के नोटों पर फ्लोरल प्रिंट, अशोक स्तंभ, पहचान चिन्ह, रिजर्व बैंक की गारंटी, मूल्य अदा करने का वचन, रिजर्व बैंक के गवर्नर के हस्ताक्षर, महात्म गांधी की तस्वीर और रिजर्व बैंक की सील उभरे प्रिंट में बने होते हैं।

यह भी पढ़ें : आर्टिकल 35 ए पर सुनवाई आज, कोर्ट ले सकती है ये अहम फैसला, घाटी में बंद का आह्वान


BY : INDRESH YADAV


Loading...





Loading...
Loading...