राष्ट्रीय - भगवान राम को लेकर मौलाना सलमान नदवी ने दिया बड़ा बयान, कहा – ‘राम अपने वक्त के पैगंबर थे’

भगवान राम को लेकर मौलाना सलमान नदवी ने दिया बड़ा बयान, कहा – ‘राम अपने वक्त के पैगंबर थे’



Posted Date: 09 Mar 2019

562
View
         

नई दिल्ली। अकसर विवादों में रहने वाले दारुल उलूम नदवुल उलेमा के प्रोफेसर मौलाना सलमान नदवी ने राम मंदिर मुद्दे पर एक बार फिर बड़ा बयान दिया है। राम मंदिर मुद्दे पर मध्यस्थता की वकालत करने वाले सलमान नदली ने कहा कि बाबरी मस्जिद को शिफ्ट किया जा सकता है। इस्लाम इसकी इजाज़त देता है और राम मुसलमानों के भी पैग्मबंर हैं।

मौलाना सलमान ने पहले भी श्री श्री रविशंकर के साथ मिलकर अयोध्या विवाद  में समझौते की कोशिश की थी जिसके लिए उन्हें काफी आलोचना झेलनी पड़ी थी और मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड से उन्हें बाहर कर दिया गया था। वह प्रसिद्ध धर्मगुरु मौलाना अली मियां नदवी के नवासे हैं जिन्होंने नदवा जैसे बड़े इस्लामिक शिक्षण संस्थान की स्थापना की थी।

एक इंटरव्यू में मौलाना नदवी ने कहा है कि इस्लामी शरीयत मस्जिद शिफ्ट करने की इजाज़त देती है और राम भी हमारे लिये एक पैगंबर हैं। इसलिये अमन की खातिर मस्जिद के लिये दूसरी जगह बड़ी ज़मीन लेकर समझौता कर लेना चाहिए। उन्होंने कहा कि इस्लामी शरियत में मस्जिद को शिफ्ट करने की इजाजत है। इसके लिए उनका दावा था कि खलीफा हजरत उमर ने कूफा शहर में एक मस्जिद को शिफ्ट करके उसकी जगह पर खजूर का बाजार बनवा दिया था। इसका मतलब है कि मस्जिद को शिफ्ट करना जायज़ है।

यह भी पढ़ें.. कोलकाता एसटीएफ को मिली बड़ी कामयाबी, 1000 किलो विस्फोटक ले जा रहे दो लोग गिरफ्तार

अयोध्‍या मामले  में सुप्रीम कोर्ट द्वारा मध्‍यस्‍थता के लिए तीन सदस्‍यों की समिति बनाए जाने के फैसले पर मौलाना नदवी ने कहा कि मुकदमा लड़ने से किसी की हार होती है तो किसी की जीत उसमें जो जीतता है वह खुद को विजयी मानता है लेकिन जो हराता है वह बेइज्जत महसूस करता है। लेकिन समझौते से इंसानियत को बढ़ावा मिलता है। 

नदवी ने कहा, 'जहां तक रामचंद्र जी की शख्यित का ताल्कुक है, वह बहुत बड़े रिफॉर्मर थे और मुसलमान मानते हैं कि दुनिया में एक लाख 24 हजार पैगंबर हुए हैं। वह (राम) भी अपने वक्त के पैगबंर थे। उनका ऐहतराम करते हुए विवादित स्थल को मंदिर बनाने के लिए दे देना चाहिए और मस्जिद के लिए कोई दूसरी बड़ी जगह लेकर वहां मस्जिद बना ली जाए औऱ साथ में एक विश्वविद्यालय भी।'

यह भी पढ़ें.. वोटर आईडी कार्ड को आधार से जोड़ने के मामले में चुनाव आयोग जाएं याचिकाकर्ताः सुप्रीम कोर्ट


BY : Saheefah Khan




Loading...




Loading...