राष्ट्रीय - वरिष्ठ अधिवक्ता प्रशांत भूषण ने मानी गलती, कहा- CBI अंतरिम निदेशक नागेश्वर राव को लेकर किये थे गलत ट्वीट

वरिष्ठ अधिवक्ता प्रशांत भूषण ने मानी गलती, कहा- CBI अंतरिम निदेशक नागेश्वर राव को लेकर किये थे गलत ट्वीट



Posted Date: 07 Mar 2019

926
View
         

नई दिल्ली। वरिष्ठ अधिवक्ता प्रशांत भूषण ने अपनी गलती मानते हुए स्वीकार किया कि सीबीआई के अंतरिम निदेशक के तौर पर एम नागेश्वर राव की नियुक्ति को लेकर ट्वीट करने के मामले में उनसे बड़ी चूक हुई है। उनके इस बयान पर बोलते हुए अटार्नी जनरल केके वेणुगोपाल ने अपना मत साफ़ किया। उन्होंने कहा कि वे प्रशांत भूषण को पहले भी सजा दिलाने के हक़ में नहीं थे। अब प्रशांत द्वारा अपनी गलती स्वीकार करने के बाद वे अवमानना याचिका को वापस ले रहे हैं।

खबरों के मुताबिक़ अधिवक्ता प्रशांत भूषण ने गुरुवार को उच्चतम न्यायालय में स्वीकार किया कि उन्होंने एम नागेश्वर राव की सीबीआई के अंतरिम निदेशक के रूप में नियुक्ति के बारे में उच्चाधिकार चयन समिति की बैठक की कार्यवाही के विवरण को गढ़ा हुआ बताने संबंधी अपना ट्वीट करके ‘सही में गलती’ की थी।

हालांकि केके वेणुगोपाल ने भूषण के इस बयान के बाद अवमानना याचिका वापस ले ली, लेकिन इससे पहले भूषण ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल करके मांग कर दी कि जो बेंच अवमानना याचिका की सुनवाई करे, उसमें जस्टिस अरुण मिश्र न हों। यही नहीं उन्होंने इस मामले में बिना शर्त माफी मांगने से भी इनकार कर दिया।

यह भी पढ़ें : लखनऊ : ‘भगवा आतंकवाद’ का शिकार बने दो कश्मीरी, पुलिस के हत्थे चढ़ा ‘विश्व हिंदू दल’ का एक ‘कार्यकर्ता’

जस्टिस अरुण मिश्र और नवीन सिन्हा की बेंच ने कहा कि इस मामले की सुनवाई वह वृहद रूप में करेंगे। कोर्ट देखेगी कि जो मामला विचाराधीन है, उसमें केवल जनसमर्थन जुटाने के लिए कोई व्यक्ति कोर्ट की आलोचना कैसे कर सकता है। मामले की अगली सुनवाई तीन अप्रैल को की जाएगी। 

बता दें प्रशांत भूषण ने ट्वीट के जरिए कहा था कि उन्हें लगता है कि सीबीआई निदेशक की नियुक्ति को लेकर जो हाई पावर्ड कमेटी की बैठक हुई, सरकार ने उसके मिनट्स की फर्जी रिपोर्ट कोर्ट में पेश की थी।

यह भी पढ़ें : चौथी की छात्रा पानी की जगह बोतल में लाई ‘मौत का सामान’, पीते ही साथी की हुई मौत


BY : Ankit Rastogi




Loading...




Loading...