राष्ट्रीय - शिवसेना ने दागा ऐसा सवाल जो भाजपा की साख पर पड़ सकता है भारी, दांव पर पीएम मोदी की कुर्सी!

शिवसेना ने दागा ऐसा सवाल जो भाजपा की साख पर पड़ सकता है भारी, दांव पर पीएम मोदी की कुर्सी!



Posted Date: 27 Aug 2018

31
View
         

नई दिल्ली। पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेई की अस्थि कलश यात्रा को लेकर मचे बवाल के बीच में एक बार फिर उस मामले को हवा मिली, जिसमें उनकी मौत की तारीख को लेकर संशय जताया जा रहा है था। दरअसल इसी मुद्दे को उछालते हुए भाजपा की सहयोगी पार्टी शिवसेना ने एक बार फिर मोदी सरकार को घेरे में लेने की कोशिश की। वहीं इससे पहले एक नामी अंग्रेजी न्यूज चैनल पर भी उनकी मौत पर संशय जताया गया था।

खबरों के मुताबिक़ शिवसेना के वरिष्ठ नेता संजय राउत ने सवाल उठाया कि क्या पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी का निधन 16 अगस्त को ही हुआ था या उस दिन उनके निधन की घोषणा की गई, जिससे यह सुनिश्चित हो सके कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का स्वतंत्रता दिवस भाषण बाधित न हो।

राज्य सभा सांसद और शिवसेना के मुखपत्र सामना के संपादक संजय राउत ने वाजपेयी के निधन के दिन को लेकर रविवार को उठाए गए सवाल का कोई स्पष्टीकरण या कारण नहीं बताया है। बता दें कि वाजपेयी के निधन की घोषणा एम्स द्वारा 16 अगस्त को की गई थी और उनके निधन का वक्त भी बताया गया था।

राउत ने कहा, हमारे लोगों की बजाए हमारे शासकों को पहले यह समझना चाहिए कि ‘स्वराज्य’ क्या है। वाजपेयी का निधन 16 अगस्त को हुआ लेकिन 12-13 अगस्त से ही उनकी हालत बिगड़ रही थी।

स्वतंत्रता दिवस पर राष्ट्रीय शोक और ध्वज को आधा झुकाने से बचने और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को भी लाल किले से अपना संबोधन देना था।

उन्होंने कहा कि वाजपेयी ने इस दुनिया को 16 अगस्त को अलविदा कहा या जब उनके निधन की घोषणा की गई।

हालांकि शिवसेना महाराष्ट्र और केंद्र में बीजेपी की गठबंधन सहयोगी है, वह भगवा पार्टी और मोदी पर निशाना साधती रहती है।

लेख में राउत ने लिखा कि नेशनल कॉन्फ्रेंस के नेता फारूख अब्दुल्ला ने वाजपेयी के निधन पर आयोजित शोक सभा में भारत माता की जय और जय हिंद के नारे लगाए और इस वजह से श्रीनगर में उनसे बदसलूकी की गई।

शिवसेना सांसद ने कहा, जब यह पता चलता है कि पुलिस ने आतंकवादियों को पकड़ा है जो दिल्ली पर हमले की साजिश रच रहे थे, तो यह बताता है कि स्वतंत्रता दिवस नजदीक आ रहा है।

राउत ने कहा, यह परंपरा इस साल भी जारी रही। स्वतंत्रता दिवस समारोह पर हमले को अंजाम देने की साजिश रच रहे 10 आतंकवादियों को गिरफ्तार किया गया। भारी मात्रा में हथियार जब्त किए गए। इसलिए (इसके बाद) प्रधानमंत्री ने निर्भय होकर स्वतंत्रता दिवस मनाया।

राउत ने लिखा, प्रधानमंत्री मोदी ने अपने स्वतंत्रता दिवस संबोधन में गरीबों के लिए कई घोषणाएं कीं। उनके भाषणा की शैली ऐसी थी कि पूर्ववर्ती सरकारों ने कुछ नहीं किया,इसलिए स्वतंत्रता (अब तक) बेकार थी।

यह भी पढ़ें : कोर्ट ऑफ इंक्वायरी में मेजर गोगोई दोषी करार, होगी कार्रवाई

 

शिवसेना नेता ने कहा, यह सच है कि कल्याण योजनाएं टैक्स के पैसे से चलती हैं जो ईमानदार लोग चुकाते हैं। यह भी सच है कि प्रधानमंत्री का विदेश दौरा भी उसी रकम से संपन्न होता है और विज्ञापनों पर खर्च होने वाले हजारों करोड़ रुपये भी इसी के जरिए हासिल होते हैं। यह नया तरीका है जिसके तहत स्वराज्य काम कर रहा है।

बता दें जब अटल जी की जो अंतिम तस्वीर मीडिया के सामने आई थी उसे देखकर ऐसा अनुमान लगाया जाने लगा कि शायद उनकी मौत पहले ही हो गई थी।

इसके साथ ही उनकी बॉडी पर किसी तैलीय पदार्थ के लगे होने की भी आशंका जताई गई थी, जिससे बॉडी को प्रिजर्व किया गया हो। शिवसेना द्वारा ऐसा बयान सामने आने के बाद ऐसा माना जा रहा है कि इसी बात को पकड़ते हुए शिवसेना ने भाजपा पर यह बड़ा हमला बोला है।

यह भी पढ़ें : अब Whatsapp बतायेगा आपको लोन मिलेगा या नहीं, ऐसे करे चेक


BY : Ankit Rastogi


Loading...





Loading...
Loading...