राष्ट्रीय - करुणानिधि के बाद स्टालिन ने संभाली डीएमके की कमान, निर्विरोध चुने गए पार्टी अध्यक्ष

करुणानिधि के बाद स्टालिन ने संभाली डीएमके की कमान, निर्विरोध चुने गए पार्टी अध्यक्ष



Posted Date: 28 Aug 2018

30
View
         

चेन्नई। तमिलनाडु की राजनीति में बेहद महत्वपूर्ण भूमिका वाली डीएमके पार्टी की कमान अब पूरी तरह से स्टालिन ने संभाल ली है। पार्टी में अध्यक्ष पद के लिए स्टालिन का ही नामांकन होने के कारण वह निर्विरोध डीएमके के नए अध्यक्ष चुन लिए गए हैं। स्टालिन विगत काफी लंबे समय से बतौर कार्यकारी अध्यक्ष वैसे भी पार्टी चला रहे थे। हाल ही में हुए तमिलनाडु के पूर्व सीएम एम करुणानिधि के निधन के बाद आज स्टालिन औपचारिक रुप से पार्टी के अध्यक्ष बन गए।

49 साल तक करुणानिधि ने संभाली थी डीएमके की कमान

इससे पहले स्वर्गीय डीएमके प्रमुख करुणानिधि ने पार्टी अध्यक्ष के रुप में 49 साल तक काम किया। करुणानिधि के बाद पार्टी के इतिहास में अध्यक्ष पद संभालने वाले स्टालिन दूसरे नेता ही है।

स्टालिन के पार्टी अध्यक्ष बनने के बाद अब उनके भाई आलागिरि उनकी मुसीबतें बढ़ा सकते हैं। इस बीच अलागिरी ने चेतावनी देते हुए कहा है कि अगर उन्हें पार्टी में जगह नहीं मिलती है तो नतीजे भुगतने के लिए तैयार रहें। स्टालिन के बड़े भाई एम. के. अलागिरि जिनको उनके नेतृत्व का विरोध करने को लेकर करुणानिधि ने पार्टी विरोधी कार्य में लिप्त रहने के लिए पार्टी से निष्कासित कर दिया था। अब ऐसी संभावना जताई जा रही है कि वह उपचुनाव में द्रमुक विरोधी कार्य कर सकते हैं।

यह भी पढ़ें : स्वामी के ट्वीट पर मचा घमासान, मालदीव के विदेश सचिव ने उठाया ये बड़ा कदम

 

एक तरफ जहां स्टालिन ने पार्टी की कमान संभाल ली है, वहीं दूसरी तरफ अलागिरी ने आगामी 5 सितंबर को एक बड़ी रैली बुलाई है। इस रैली के माध्यम से आलागिरि अपनी आगामी रणनीतियों का खुलासा कर सकते हैं।

यह भी पढ़ें : जेटली का कांग्रेस पर बड़ा हमला, अंधाधुंध कर्ज बांटकर यूपीए सरकार ने पैदा की एनपीए की समस्या


BY : INDRESH YADAV


Loading...





Loading...
Loading...