राष्ट्रीय - हाथियों और अपनी मूर्तियों पर किया खर्च वापस करें मायावती- सुप्रीम कोर्ट

हाथियों और अपनी मूर्तियों पर किया खर्च वापस करें मायावती- सुप्रीम कोर्ट



Posted Date: 08 Feb 2019

3874
View
         

नई दिल्ली। लोकसभा चुनाव से ठीक पहले बहुजन समाज पार्टी (बसपा) प्रमुख मायावती को सुप्रीम कोर्ट से तगड़ा झटका लगा है। दरअसल, उच्चतम न्यायालय ने शुक्रवार को दस साल पुरानी एक याचिका पर सुनवाई करते हुए कहा कि यह अस्थायी आदेश है कि मायावती को लखनऊ और नोएडा में अपनी मूर्ति और पार्टी के चुनाव चिन्ह हाथियों को बनाने में जितना जनता का पैसा खर्च किया है, उसे सरकारी खजाने में लौटाना होगा। सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने कहा कि मामले की अगली सुनवाई 2 अप्रैल को करेंगे। गौरतलब हो कि नोएडा और लखनऊ स्थित पार्क में लगी मूर्तियों के कारण मायावती अक्सर निशाने पर रहती हैं।

मायावती को मूर्तियों पर किया खर्च लौटाना होगा

सुप्रीम कोर्ट ने 2009 में रविकांत और अन्य लोगों की ओर से दायर याचिका पर सुनवाई करते हुए कहा कि मायावती को मूर्तियों पर खर्च सभी पैसे सरकारी खजाने में जमा कराना चाहिए। चीफ जस्टिस ने मायावती के वकील से कहा कि आफ अपने क्लाइंट को कह दीजिए कि वह मूर्तियों पर खर्च हुए पैसों को सरकारी खजाने में जमा कराएं। इसके साथ ही बेंच ने स्पष्ट करते हुए कहा कि उसने प्रथम दृष्ट्या अपना मत रखा है, क्योंकि इस ममाले की सुनवाई में अभी वक्त लगेगा। पीठ ने कहा, ‘हम इस मामले पर अंतिम निर्णय 2 अप्रैल को लेंगे।’

क्या था मामला?

लखनऊ विकास प्राधिकरण द्वारा तैयार रिपोर्ट के अनुसार उत्तर प्रदेश की तत्कालीन मुख्यमंत्री मायावती ने लखनऊ, नोएडा और ग्रेटर नोएडा में स्थित पार्क और मूर्तियों पर कुल 5,919 करोड़ रुपये खर्च किए थे।

यह भी पढ़ें.. प्रधानमंत्री और राष्ट्रपति के सुरक्षा में शामिल होगा ऐसा आधुनिक विमान, जिस पर मिसाइल हमला भी होगा फेल

नोएडा स्थित दलित प्रेरणा स्थल पर हाथी की पत्थर की 30 मूर्तियां जबकि कांसे की 22 प्रतिमाएं लगवाई गईं थी। जिसका खर्च 685 करोड़ रुपये आया था। इस रिपोर्ट में यह भी कहा गया था कि इन पार्कों और मूर्तियों के रखरखाव के लिए 5,634 कर्मचारियों की बहाली की गई थी।

यह भी पढ़ें.. शोऑफ के जमाने में इतनी सादगी, एक फैसले से यह IAS अधिकारी पूरे देश में बटोर रहा वाहवाही


BY : shashank pandey




Loading...




Loading...