राष्ट्रीय - इस दिग्गज नेता ने विपक्ष को दिया ‘मिशन 2019’ भेदने का गजब फार्मूला ...तो ऐसे देंगे BJP को टक्कर

इस दिग्गज नेता ने विपक्ष को दिया ‘मिशन 2019’ भेदने का गजब फार्मूला ...तो ऐसे देंगे BJP को टक्कर



Posted Date: 28 Aug 2018

33
View
         

मुंबई। साल 2019 में होने वाले लोकसभा चुनावों के लिए सत्ता पक्ष और विपक्ष दोनों ही पूरे जोर-शोर से जुटे हुए हैं। ऐसे में राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) के प्रमुख शरद पवार ने विपक्ष की ओर से प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार के लिए एक बड़ा फार्मूला सुझाया है। उन्होंने सोमवार को इस बात का जिक्र किया कि साल 2019 के आम चुनावों में ज्यादा जीतने वाली पार्टी का उम्मीदवार ही प्रधानमंत्री बनेगा। इसके साथ ही उन्होंने इस बात पर भी खुशी जाहिर की जिसमें राहुल गांधी ने कहा था कि वे प्रधानमंत्री बनने का सपना नहीं देखते हैं।

खबरों के मुताबिक़ शरद पवार ने पार्टी कार्यकर्ताओं की बैठक में कहा कि चुनाव होने दीजिए, इन लोगों (भाजपा) को सत्ता से बेदखल होने दीजिए। हम एकसाथ बैठेंगे। सबसे ज्यादा सीटें जीतने वाली पार्टी प्रधानमंत्री पद पर दावा कर सकती है।

उन्होंने कहा कि 2004 के आम चुनाव के बाद यूपीए ने एनडीए सरकार को सत्ता से बेदखल किया था। उन्होंने कहा कि वह हर राज्य में जाकर ऐसे क्षेत्रीय दलों को उनके साथ जोड़ने की कोशिश करेंगे, जो अभी भाजपा के साथ नहीं हैं।

उन्होंने कहा, "मैं इस बात से खुश हूं कि कांग्रेस नेता (राहुल गांधी) ने कहा है कि वह प्रधानमंत्री पद की दौड़ में नहीं हैं। इससे विवाद खत्म हो जाएगा।"

दरअसल राहुल गांधी से लंदन में पत्रकारों ने सवाल किया था कि क्या आप खुद को भारत के अगले प्रधानमंत्री के तौर पर देखते हैं?

इस पर उन्होंने कहा था, "मैं यह सपना नहीं देखता। फिलहाल मैं इस बारे में नहीं सोच रहा। मैं खुद को एक वैचारिक लड़ाई लड़ने वाले के तौर पर देखता हूं। मुझमें यह बदलाव 2014 के बाद आया। मुझे लगा कि भारत में जैसी घटनाएं हो रही हैं, उससे भारत और भारतीयता को खतरा है। मुझे इससे देश की हिफाजत करनी है।"

इससे पहले मई में राहुल गांधी ने इसी सवाल पर बेंगलुरु में कहा था- अगर 2019 के चुनाव में कांग्रेस सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरती है तो फिर मैं प्रधानमंत्री क्यों नहीं बन सकता?

यह भी पढ़ें : राहुल को भारी पड़ा नोटबंदी के दौरान उठाया गया ये कदम, कर सकते हैं हवालात की सैर

 

वहीं शरद पवार ने कहा, "गुजरात, मध्य प्रदेश और राजस्थान में कांग्रेस की स्थिति मजबूत है। उत्तर प्रदेश में मायावती और अखिलेश हैं। हर राज्य की स्थिति अलग है। हमें हर राज्य में मजबूत लोगों को अपने साथ लेना होगा। ताकि हम भाजपा के खिलाफ मजबूत गठबंधन बना सकें।"

इस दौरान पवार से पूछा गया कि क्या मनसे भाजपा-विरोधी गठबंधन का हिस्सा होगी तो उन्होंने कहा कि इस मुद्दे पर अब तक चर्चा नहीं की गई है। मनसे प्रमुख राज ठाकरे से मुलाकात हुई थी, लेकिन ईवीएम के कथित दुरुपयोग को लेकर बातचीत हुई।

यह भी पढ़ें : कांग्रेस समेत अन्य विपक्षी दलों को नहीं है ईवीएम पर भरोसा, बैलेट पेपर से चुनाव कराने की मांग


BY : Ankit Rastogi


Loading...





Loading...
Loading...