राष्ट्रीय - सुप्रीम कोर्ट में मामला: दो से अधिक बच्चे वाले उम्मीदवारों को चुनाव में ना दिया जाए टिकट

सुप्रीम कोर्ट में मामला: दो से अधिक बच्चे वाले उम्मीदवारों को चुनाव में ना दिया जाए टिकट



Posted Date: 09 Feb 2019

4000
View
         

नई दिल्ली। भारत में बढ़ती आबाद भले ही सरकार के लिए चिंता का विषय ना हो, लेकिन जनसामान्य को अब यह आभास होने लगा है कि अगर जल्द इस विषय पर सख्त कानून नहीं बनाया गया तो देश के सामने विकराल समस्या खड़ी हो जाएगी। इस बावत कई बार जनसंख्या नियंत्रण कानून की मांग भी उठी है। वहीं अब यह मामला सुप्रीम कोर्ट पहुंच गया है। जहां एक याचिकाकर्ता ने उच्चतम अदालत से यह मांग की है कि वह राजनीतिक दलों को यह निर्देश दे कि कि वे दो से अधिक बच्चे पैदा करने वाले उम्मीदवीरों को चुनाव में टिकट ना दें।

बता दें कि सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल करने वाले शख्स स्वयं भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के नेता और वकील हैं। इनका नाम अश्विनी उपाध्याय है। उनकी याचिका अगले सप्ताह सुनवाई के लिए सूचीबद्ध होने की उम्मीद है।

बीजेपी नेता ने याचिका में क्या कहा?

बीजेपी नेता ने अपनी याचिका में कहा कि सरकारी नौकरियों, सहायता, सब्सिडी प्राप्त करने के लिए दो बच्चों के नियम को अनिवार्य करने के साथ ही कानून में संशोधन कर राजनीतिक दलों की मान्यता देने की शर्त के तौर पर भी इसे जोड़ा जाना चाहिए। इस मानदंड का पालन नहीं करने पर नागरिकों के वैधानिक अधिकारों को भी वापस लेना चाहिए, जिनमें वोट देने और चुनाव लड़ने का अधिकार शामिल है।

यह भी पढ़ें.. सरकारी कर्मचारियों की हुई बल्ले-बल्ले, मोदी सरकार ने चुनाव से पहले बदला 27 साल पुराना यह नियम

दो से अधिक बच्चे पैदा करने वालों के मताधिकार छीन लेना चाहिए- रामदेव

आपको बता दें कि जनसंख्या नियंत्रण को लेकर मताधिकार छीनने की बात कहने वाली बातें पहले भी कई दिग्गज कह चुके हैं। बीते दिनों योग गुरु बाबा रामदेव ने भी कुछ ऐसा ही बयान दिया था। उन्होंने कहा था कि दो से ज्यादा संतानें पैदा करने वालों को मतदान का अधिकार नहीं मिलना चाहिए। रामदेन ने कहा, 'इस देश में जो हमारी तरह से विवाह न करे उनका विशेष सम्मान होना चाहिए, और विवाह करे तो 2 से ज्यादा संतान पैदान करे तो उसका मतदान का अधिकार नहीं होना चाहिए।

यह भी पढ़ें.. पूर्व सीबीआई डायरेक्टर नागेश्वर राव से जुड़ी कम्पनी के दो ठिकानों पर कोलकाता पुलिस ने मारी रेड


BY : shashank pandey




Loading...




Loading...