अंतरराष्ट्रीय - अबकी बार UNSC को लगाना ही होगा मसूद अजहर पर आतंवादी का टैग, भारत पेश करेगा ये ठोस सबूत

अबकी बार UNSC को लगाना ही होगा मसूद अजहर पर आतंवादी का टैग, भारत पेश करेगा ये ठोस सबूत



Posted Date: 13 Mar 2019

19
View
         

नई दिल्ली। पाकिस्तान से संचालित आतंकी संगठन जैस ए मोहम्मद के सरगना मसूद अजहर को सयुंक्त राष्ट्र सुरक्षा यूऐनएससी की ओर से वैश्विक आतंकवादी घोषित किये जाने के प्रस्ताव पर बुधवार शाम तक मुहर लगाईं जा सकती है। भारत ने इसके लिए पूरी तैयारी कर रखी है।

इससे पहले ऐसा कई बार हुआ है कि भारत ने जब भी मसूद को वैश्विक आतंकी घोषित करने की अपील की है तब तब चाइना ने अपने वीटो पॉवर का इस्तेमाल करते हुए हुए उससे बचाया है। चीन ने हर बार ठोस सबूत का अभाव बताकर मसूद के हक़ में फैसला लिया है, लेकिन इस बार चीन भारत के सबूत को झुठला नहीं सकता।

पुलवामा आतंकी हमले के बाद जैश-ए-मोहम्मद प्रमुख मौलाना मसूद अजहर का वो भाषणजिसमें वह आदिल अहमद डार की तारीफ कर रहा है और कलाम में छपे उस लेख में जसमें मसूद अजहर के भाई अब्दुल रऊफ और साले युसुफ अजहर के बालाकोट कैंप में होने की पुष्टि की गई थी। इन सबूतों को दरकिनार नहीं किया जा सकता। वहीं पुलवामा आतंकी हमले को लेकर डोजियर भी पेश किया जाएगा, जिसमें पुख्ता सबूत हैं कि इसकी साजिश जैश-ए-मोहम्मद ने पाकिस्तानी जमीन से ही रची थी। एक वीडियो साझा किया गया है जिसमें पुलवामा आतंकी हमले का हमलावर आदिल अहमद डार पुलवामा को लेकर बातें कर रहा है और हमले में जैश-ए-मोहम्मद का ही हाथ थी। ऐसे तमाम और कई सबूत है जो भारत आज सयुंक्त राष्ट्र सुरक्षा यूऐनएससी की बैठक में पेश करेगा।

मसूद को वैश्विक आतंकवादी घोषित करने में अमेरिका भी भारत के साथ है। अमेरिका ने अपने बयान में कहा है जैश-ए-मोहम्मद एक अंतरराष्ट्रीय आतंकी संगठन है। इसका सरगना मौलाना मसूद अजहर है। इसलिए ऐसी स्‍थिति में उसे ग्लोबल आतंकी घोषित किया जाना चाहिए। अमेरिका ने मसूद अजहर को भारतीय उपमहाद्वीप में शांति के लिए खतरा भी बताया है। अमेरिका ने यह साफ कर दिया है भारत-अमेरिका इस मुद्दे पर साथ में काम कर रहे हैं।

यदि मसूद अजहर वैश्विक आतंकवादी घोषित होता है तो?

जब्त होगी संपत्ति

इस सूची में शामिल होते ही संयुक्त राष्ट्र के नियमों के अनुसार सभी देश बिना देरी किए संबंधित व्यक्ति, समूह या संस्था का धन, वित्तीय संपत्ति और आर्थिक संसाधनों को जब्त कर लेते हैं।

यात्रा पर प्रतिबंध

सभी देशों को प्रतिबंधित सूची में शामिल लोगों का विश्व के किसी भी देश में आने-जाने पर प्रतिबंध लग जाता है। इसके अलावा वह जिस देश में है उसमें भी स्वतंत्र रूप से यात्रा नहीं कर सकता है।

शस्त्र पर प्रतिबंध

संयुक्त राष्ट्र की प्रतिबंधित सूची में शामिल होते ही संबंधित व्यक्ति या संस्था को किसी भी देश या संगठन द्वारा हथियारों का खरीद-फरोख्त, उसके पुर्जों, मैटेरियल, तकनीकी की जानकारी देने पर प्रतिबंध लग जाता है। प्रतिबंधित व्यक्ति या संस्थान किसी भी देश का झंडा लगा वायुयान या जलपोत का उपयोग नहीं कर सकता है।


BY : Ankit Singh




Loading...




Loading...