राष्ट्रीय - अमेरिकी कार्यकर्ता का दावा- बालाकोट हमले में मारे गए थे 200 आतंकी, सबूत के तौर पर शेयर किया वीडियो

अमेरिकी कार्यकर्ता का दावा- बालाकोट हमले में मारे गए थे 200 आतंकी, सबूत के तौर पर शेयर किया वीडियो



Posted Date: 13 Mar 2019

19
View
         

पुलवामा हमले के बाद भारतीय वायुसेना ने 26 फरवरी को जवाबी करते हुए पाकिस्तान के बालाकोट स्थित आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के कई ठिकानों को तबाह किया था। इस लक्षित हवाई हमले में बड़े पैमाने पर दहशतगर्दों के मारे जाने की आशंका जताई गई थी। हालांकि, कितने आतंकी मारे गए इसको लेकर स्थिति स्पष्ट नहीं हुई थी, जिसको लेकर इस एयरस्ट्राइक पर सवाल भी खड़े हुए थे और कई लोगों ने इसके सबूत भी मांगे थे।

इन सवालों के बीच पाकिस्तान के एक उर्दू मीडिया में खबरें आई हैं कि भारतीय वायुसेना की इस कार्रवाई के बाद बालाकोट से कुछ शवों को खैबर पख्तूनख्वा और पाकिस्तान के कबाइली इलाकों में भेजा गया है। गिलगित के एक कार्यकर्ता ने इस बारे में जानकारी दी है।

दो मिनट के वीडियो में पाक सेना लोंगो को दे रही सांत्वना

अमेरिका के रहने वाले और गिलगित से संबधन रखने वाले कार्यकर्ता सेंग हसन सेरिंग ने हवाई हमले में मारे गए आतंकियों को लेकर सोशल मीडिया पर एक वीडियो भी जारी किया है। वीडियो में कार्यकर्ता ने दावा किया है कि बालाकोट में की गई एयरस्ट्राइक में करीब 200 से अधिक आतंकी मारे गए थे।

करीब 2 मिनट 20 सेंकेट के इस वीडियो में पाकिस्तानी सेना को कुछ लोगों सांत्वना देते देखा जा सकता है। वीडियो में एक शख्स यह कहते हुए दिखाई दे रहा है कि कल कल हमारा करीब 200 बंदा ऊपर गया है।

अमेरिका कार्यकर्ता ने कहा...

समाचार एजेंसी एएनआई से बात करते हुए सेरिंग ने कहा, मुझे यह नहीं मालूम कि इस वीडियो की सच्चाई क्या है, लेकिन पाकिस्तान निश्चित तौर पर बालाकोट में हुए कुछ महत्वपूर्ण चीज को छिपा रहा है। अंतरराष्ट्रीय और स्थानीय मीडिया को घटनास्थल पर जाने और नुकसान के आकलन की इजाजत नहीं दी गई। 

सेरिंग ने कहा, ‘पाकिस्तान भले ही लगातार कह रहा है कि हवाई हमला हुआ और इससे जंगल और खेत की कुछ जमीनों को नुकसान पहुंचा है। लेकिन इसके बाद ऐसी कोई वजह नहीं है जिससे पाकिस्तान ने लंबे समय से इस इलाके में जाने पर पाबंदी लगा रखी है और अंतरराष्ट्रीय मीडिया को वहां के हालात के बारे में स्वतंत्र राय बनाने नहीं दे रहे।’

पाकिस्तान बालाकोट पर झूठ बोल रहा

अमेरिकी कार्यकर्ता बताया, ‘जैश-ए-मोहम्मद का दावा है कि वहां उसका मदरसा मौजूद था। साथ ही साथ ऊर्दू मीडिया में ऐसी खबरें है कि हमले के दूसरे दिन या कुछ दिनों बाद कुछ शवों को बालाकोट से खैबर पखतूनख्वा और पाकिस्तान के दूसरे कबायली इलाकों में भेजा गया।

यह भी पढ़ें.. पुलिस ने पकड़ा 50 लड़कियों की ज़िंदगी बर्बाद करने वाला गिरोह, गाड़ी में खींचकर करता था रेप और बनाता था विडियो

इसलिए ऐसे काफी सबूत हैं जिससे विश्वास के साथ कहा जा सकता है कि बालाकोट में भारतीय वायुसेना का हवाई हमला सफल था और पाकिस्तान इससे उलटा कुछ भी साबित नहीं कर पाया है। क्योंकि उसने अंतरराष्ट्रीय और राष्ट्रीय मीडिया को घटनास्थल में जाने की अनुमति नहीं दी है।

यह भी पढ़ें.. वीडियो देखकर बच्चे को जन्म देने की कोशिश, अविवाहिता की दर्दनाक मौत


BY : shashank pandey




Loading...




Loading...