आजमगढ़ - लोकसभा चुनाव 2019 : मतदाताओं को जागरुक करेंगी महिला सश्कितकरण की प्रतीक शहर की विभा गोयल

लोकसभा चुनाव 2019 : मतदाताओं को जागरुक करेंगी महिला सश्कितकरण की प्रतीक शहर की विभा गोयल



Posted Date: 10 Mar 2019

21
View
         

आज़मगढ़। हम में से कुछ लोग ऐसे होते हैं जो चुनावों से पहले सिस्टम की तो बहुत आलोचना करते हैं लेकिन चुनाव के समय वोट नहीं डालते या निर्वाचक नामवली में हुई गड़बड़ी को ठीक कराना ज़रुरी नहीं समझते। ऐसे लोगों को जागरुक करने के लिए प्रशासन ने बेड़ा सौंपा है शहर की महिला सश्कतिकरण की प्रतीक विभा गोयल को। विभा दुनिया देखने से महरुम हैं लेकिन मतदाताओं को रौशनी दिखाने का काम करेंगी।

जिलाधिकारी/जिला निर्वाचन अधिकारी शिवाकांत द्विवेदी के आदेश पर स्वीप योजना के अंतर्गत मतदाता जागरूकता के लिए विभा गोयल को जनपद स्तर पर स्वीप आइकॉन नामित किया गया है। विभा गोयल लोकसभा सामान्य निर्वाचन-2019 के लिए एक जनवरी 2019 के अर्हता के आधार पर समस्त पात्र नागरिकों को जिनके नाम निर्वाचक नामावली में अभी तक शामिल नहीं हैं। उनके नाम शामिल कराए जाने के लिए नोडल अधिकारी स्वीप द्वारा चलाए जा रहे कार्यक्रमों में प्रतिभाग कर मतदाताओं को मतदान अवश्य करने के लिए प्रेरित करेंगी। जिससे आगामी लोकसभा चुनाव में मतदान फीसद में अपेक्षित प्रगति हो सके।

यह भी पढ़ें.. लोकसभा चुनाव 2019 : अखिलेश यादव लड़ेंगे आज़मगढ़ से चुनाव? सियासी गलियारों में मची हलचल

शहर के पुरानी सब्जी मंडी मोहल्ला निवासी विभा गोयल दोनों आखों से दिव्यांग हैं। लगभग 14 वर्ष पूर्व आखों से दिव्यांग हुईं विभा गोयल ने हार नहीं मानी। बिना देखे सिलाई, कढ़ाई, पेंटिग, मेंहदी डिजाइनिग और संगीत में कई महिलाओं व बच्चों को पारंगत कर चुकी हैं। विभा ने वर्ष 1999 में मड्यूल हिस्ट्री में एमए किया।

उसी समय से उनकी आंखों की रोशनी धुंधली होने लगी थी। वर्ष 2004 आते-आते वह बमुश्किल एक फीट की दूरी तक ही देख सकतीं थीं। जिले से लेकर बाहर तक चिकित्सकों को दिखाया गया तो पता चला कि उनके रेटीना की नस सूख गई है। बावजूद इसके वह जिदगी से हार नहीं मानी और आगे बढ़ती गईं।

यह भी पढ़ें.. आखिरकार अकसर विवादों में घिरे रहने वाले अहरौला एसओ का हुआ तबादला, ग्रामीणों ने मिठाई बांट मनाई खुशी


BY : Saheefah Khan




Loading...




Loading...