कारोबार - प्राइवेट जेट के बाद अब तोड़ा जा रहा माल्या का ये खास विमान, कभी थी शान की सवारी

प्राइवेट जेट के बाद अब तोड़ा जा रहा माल्या का ये खास विमान, कभी थी शान की सवारी



Posted Date: 08 Mar 2019

4566
View
         

नई दिल्ली। कभी विजय माल्या की शान माने जाने वाले उनके प्राइवेट विमान को अब तोड़कर अमेरिका भेजा जायेगा। बैंकों से हजारों करोड़ रुपए का कर्ज लेकर देश छोड़कर भागे विजय के इस विमान को अमेरिकी कंपनी ने नीलामी में ख़रीदा था। अब अमेरिकी कंपनी की ही मांग है कि उसे तोड़कर अमेरिका भेजा जाए। इसे मुंबई में एयर इंडिया के हैंगर में तोड़ा जा रहा है। डिस्मेंटल करने के बाद इसे अलग-अलग पुर्जों के रूप में फ्लोरिडा भेजा जाएगा।

A-319 नाम के इस प्राइवेट विमान को कभी विजय माल्या का स्टाइल स्टेटमेंट कहा जाता था। एक समय था जब माल्या को उनकी शानो शौकत और लक्ज़री लाइफस्टाइल के लिए जाना जाता था। उसी लक्ज़री लाइफस्टाइल में यह विमाल भी शामिल था। इसमें हर तरह की लग्जरी सुविधाएं मौजूद थीं। लेकिन कर्ज वसूली के लिए सरकारी विभागों ने उनके विमान को जब्त कर उसकी नीलामी कर दी।

अमेरिकी कंपनी एएमएस ने नीलामी प्रक्रिया में विमान को 34 करोड़ रुपए में खरीदा था। यह नीलामी पिछले वर्ष जून माह में हुई थी। प्रशासनिक दिक्कतों की वजह से विमान को अमेरिकी कंपनी अपने कब्जे में नहीं ले सकी थी। बता दें कि इससे पहले इस विमान की नीलामी तीन बार विफल हो गई थी और इसे खरीदा नहीं जा सका था। नीलामी की शर्तों के अनुसार विमान को एयरपोर्ट से 60 दिन के भीतर हटाना होगा। 13 फरवरी को विमान को लीमा एप्रोन द्वारा एयर इंडिया के हैंगर में खींचकर खड़ा कर दिया गया।

उल्लेखनीय है कि कर्नाटक से दो बार राज्यसभा सांसद रहे विजय माल्या पर करीब 10 हजार करोड़ रुपए बकाया है। भारत सरकार उनके प्रत्यर्पण की कोशिश कर रही है लेकिन लंदन की वेस्टमिंस्टर कोर्ट में भी उनके खिलाफ एक मुकदमा चल रहा है।

माल्या पर बैंकों के नौ हजार करोड़ रुपए से ज्यादा बकाया हैं। वहीं इसके साथ-साथ 800 करोड़ रुपए का सर्विस टैक्स भी बकाया है। माल्या के खिलाफ कई एजेंसियां जांच कर रही है। भारत सरकार लगातार उनके प्रत्यर्पण की कोशिश कर रही है। माल्या को भारत लाकर मुंबई की ऑर्थर रोड जेल में रखा जाएगा।

फिलहाल माल्या ने ट्वीट कर कहा था कि वह बैंकों का पूरा कर्ज लौटाने को तैयार हैं।

Also Read- 

 

 


BY : Ankit Singh




Loading...




Loading...