लाइफस्टाइल - अरे वाह! दादी मां के नुस्खों वाली इस थेरेपी से इतने ढेर सारे फायदे...यकीन न हो तो खुद अपना कर देखें

अरे वाह! दादी मां के नुस्खों वाली इस थेरेपी से इतने ढेर सारे फायदे...यकीन न हो तो खुद अपना कर देखें



Posted Date: 09 Feb 2019

3850
View
         

खूबसूरत स्माइल के लिए आजकल लोग न जाने क्या क्या जतन करते हैं। दातों की सेहत के लिए खूब जेबें भी ढीली करनी पड़ती है लेकिन क्या आप जानते हैं कि पारंपरिक आयुर्वेद में दांत, ज़बान और मुंह के अंदर के भाग को हेल्दी रखने के लिए स्निग्ध गूंडशा का इस्तेमाल होता था। धीरे-धीरे नई टेक्नीक आती गयी और इस थेरेपी का चलन समाप्त हो गया। लेकिन यह थेरेपी बहुत ही उपयोगी है। आइए जानते हैं इसके लाभ।

दादी मां के नुस्खे वाली इस थेरेपी से मुंह के बैक्टीरिया नष्ट होते हैं और दांतों को सेंसिटिविटी कम होती है इस थेरेपी से सिरदर्द, ब्रोंकाइटिस, दांत दर्द, अल्सर, पेट, किडनी, आंत, हार्ट, लिवर और फेफड़ों के रोग और अनिद्रा में राहत मिलती है।

इसमें तिल, सूरजमुखी या नारियल का तेल मुंह में घुमाया जाता है। 10-15 मिनट बाद जब तेल पतला हो जाता है तो इसे थूक दिया जाता है और मुंह अच्छी तरह से साफ कर लिया जाता है। ध्यान रहे कि तेल को निगलना नहीं है।

तेल में मौजूद प्राकृतिक एंटीबैक्टीरियल और एंटीबायोटिक गुण आपके दांतों को साफ कर देते हैं जिससे आपके दांतों में 2 हफ्ते के अंदर ही मोतियों सी चमक आ जाती है।

यह थेरेपी शरीर से काम का बोझ कम कर देती है। इससे एनर्जी के स्‍तर में वृद्धि हो जाती है और विषाक्‍त पदार्थों को हटाने के लिए अथक काम करने की अपेक्षा शरीर के विभिन्‍न अंग अपने अनुसार कार्य करने में सक्षम हो जाते है। 

इसके अलावा इससे हानिकारक तत्व खून में मिलने से पहले बाहर समाप्त हो जाते हैं और आपकी त्वचा स्वस्थ रहती है और त्वचा की विभिन्न प्रकार की समस्याओं को भी रोका जा सकता है साथ ही इससे हार्मोनल संतुलन बना रहता है और आप बीमारियों से दूर रहते हैं।


BY : Saheefah Khan




Loading...




Loading...