राजनीति - चुनाव से पहले यूपी में ओवैसी की एंट्री बिगाड़ सकती है भाजपा का खेल, इस केंद्रीय मंत्री को मिला धमकी भरा पत्र

चुनाव से पहले यूपी में ओवैसी की एंट्री बिगाड़ सकती है भाजपा का खेल, इस केंद्रीय मंत्री को मिला धमकी भरा पत्र



Posted Date: 11 Feb 2019

80
View
         

लखनऊ। चुनावी माहौल के चलते ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल के प्रमुख और हैदराबाद से सांसद असदुद्दीन ओवैसी आगामी मंगलवार को अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी आने वाले हैं। यहां पर वह एक कार्यक्रम में शामिल होने के लिए आ रहे हैं। हालांकि उनके आने से पहले ही भाजपा खेमे में खलबली मच गई है और आने से पहले ही उनके प्रस्तावित दौरे को रद्द किए जाने की मांग खड़ी हो गई है। अलीगढ़ में ही भाजपा इकाई के कार्यकर्ताओं ने मांग की है कि ओवैसी का यह दौरा रद्द कर दिया जाए।

यहां के भाजपा कार्यकर्ताओं ने केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर को पत्र लिखकर कहा है कि ओवैसी का यह दौरा रद्द कर दिया जाए। इसके साथ ही उन्होंने यूनिवर्सिटी में ओवैसी को बुलाने के लिए यहां के नेताओं के खिलाफ कार्रवाई की मांग भी की है। अलीगढ़ भाजपा इकाई के प्रवक्ता डॉक्टर निशित शर्मा ने कहा है कि अगर ओवैसी यहां आए तो हम उन्हें यूनिवर्सिटी में घुसने नहीं देंगे। उन्होंने मानव संसाधन विकास मंत्री प्रकाश जावड़ेकर को पत्र लिखकर कहा है कि अगर ओवैसी यहां आए तो यहां से वापस नहीं जा पाएंगे।

शर्मा ने अपने पत्र में कहा है कि इस तरह के कार्यक्रम जिले में सांप्रदायिक सौहार्द को बिगाड़ सकते हैं। इसके अलावा इन फैसलों से एक शैक्षणिक संस्थान को राजनीतिक आधार बनाने का प्रयास किया जा रहा है। जिससे कि हिंदुओं की भावनाओं को आहत करने का प्रयास भी किया जा रहा है। शर्मा ने आगे कहा है कि ओवैसी जैसे लोग सीरिया, गाजा और फिलिस्तीन के लिए शांति की बात करते हैं, वे अलीगढ़ के सांप्रदायिक माहौल को बिगाड़ना चाहते हैं।

यह भी पढ़ें : समाज में माहौल बिगाड़ने वालों को दिग्गज भाजपा नेता की चुनौती, अगर की यह टिप्पणी तो होगी पिटाई

भाजपा प्रवक्ता शर्मा की इस धमकी के जवाब में अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के उपाध्यक्ष हमजा सूफियान का कहना है कि कोई भारतीय भारत के किसी भी हिस्से में जा सकता है और उसे इसके लिए किसी भी प्रकार की अनुमति की जरूरत नहीं है। ऐसा करने वाला हर एक कदम असंवैधानिक होगा। उनकी चर्चाएं राजनीतिक होंगी और इसका धर्म से किसी भी प्रकार का लेना देना नहीं होगा। इसके अलावा सूफियान ने कहा है कि यहां हमेशा से ही मुस्लिम नेताओं को धर्मनिरपेक्ष दलों के रूप में लूटा गया है और लगातार सरकारें समुदाय की आकांक्षओं को पूरा करने में विफल रही हैं लेकिन अब इसके खिलाफ संगठन आवाज उठाएगा।

यह भी पढ़ें : प्रियंका की राजनीति में एंट्री बिगाड़ सकती है भाजपा का खेल, बढ़ती लोकप्रियता के चलते उठी यह मांग


BY : Akhilesh Tiwari




Loading...




Loading...