राष्ट्रीय - एक मजदूर की बेटी के जरिए बदलेगा इतिहास, इस गांव की धरती पर उतरेगा हेलीकॉप्टर

एक मजदूर की बेटी के जरिए बदलेगा इतिहास, इस गांव की धरती पर उतरेगा हेलीकॉप्टर



Posted Date: 10 Feb 2019

5812
View
         

सोनीपत। इस देश में जिसके पास पैसा है, उसके लिए हर महंगे शौक भी सस्ते हैं। लेकिन जिसके पास पैसा नहीं, उसके लिए तो दो वक्त की रोटी का जुगाड़ करना भी बेहद मुश्किल काम है। ऐसे में वह महंगे शौक के ख्वाब ही नहीं देखता। वहीं अगर आपसे यह कहा जाए कि एक मजदूर की बेटी की वजह से उसके गांव में पहली बार कोई हेलीकॉप्टर उतरेगा और उस हेलीकॉप्टर में ही उसकी विदाई होगी। इस बात पर विश्वास करना मुश्किल ही नहीं नामुमकिन है। लेकिन आपको बता दें कि यह बिल्कुल सच है।

दरअसल हरियाणा के हांसी में एक गरीब परिवार की बेटी की शादी में उसकी विदाई बेहद धूमधाम से हेलीकॉप्टर से होगी। जिसकी वजह से उस गांव का इतिहास भी बदल जाएगा। क्योंकि उस बेटी की वजह से गांव की जमीन पर पहली बार हेलीकॉप्टर लैंड करेगा। बतातें चलें कि गोहाना के गांव हसनगढ़ में रहने वाली एक मजदूर की बेटी की शादी हांसी के गांव रामपुरा में रहने वाले एक लड़के से हो रही है और उसका दूल्हा अपनी दुल्हन को लेने के लिए हेलीकॉप्टर से आएगा। अपने बेटे की शादी को यादगार बनाने के लिए दूल्हे के पिता ने हेलीकॉप्टर का इंतजाम किया है।

हिसार जिले के हांसी क्षेत्र के गांव रामपुरा में रहने वाले सतबीर लगभग सवा साल पहले गोहाना के गांव हसनगढ़ में किसी कार्यक्रम में शामिल होने के लिए आए थे। जिसके बाद उनकी नजर उसी कार्यक्रम में मौजूद एक मजदूर की बेटी संतोष पर गई। जिसकी सादगी देख सतबीर काफी प्रभावित हुए और उसी समय उन्होंने यह फैसला लिया कि वह अपने बेटे संजय की शादी संतोष से ही करवाएंगे।

यह भी पढ़ें : सरकारी कर्मचारियों की हुई बल्ले-बल्ले, मोदी सरकार ने चुनाव से पहले बदला 27 साल पुराना यह नियम

जिसके बाद अपने बेटे का रिश्ता लेकर संतोष के घर पहुंचे और वहां उनके परिजनों से बात करके यह शादी पक्की कर दी। यही नहीं उन्होंने इस शादी को यादगार बनाने और एक मिसाल पेश करने के लिए दहेज न लेने की मांग की। सतबीर की पारिवारिक पृष्ठभूमि काफी साधारण है, लेकिन वह फिर भी अपने बेटे की शादी को यादगार बनाना चाहते थे। इसी बीच उनकी भगवान ने जैसे सुन ली हो, उनके पास मौजूद तीन एकड़ जमीन में से आधा एकड़ जमीन पर सरकार ने अधिग्रहण कर लिया। जिसके बदले उन्हें मुआवजे में काफी पैसे मिले।

यह भी पढ़ें : कमाल का रेस्टोरेंट, यहां खाना वेस्ट करने पर ग्राहकों को देना पड़ता है जुर्माना

बस फिर क्या था उन्होंने जो सोच रखा था, वह करने की ठान ली और अपने बेटे की शादी में दुल्हन को विदा कराने के लिए हेलीकॉप्टर बुक कर लिया। जिसके लिए उन्होंने प्रतिघंटे के हिसाब से 70 हजार रुपए देने की बात कही। यह सब पूरा होने के बाद अब वह रविवार को दुल्हन को लेने के लिए हसनगढ़ पहुंचेंगे। जहां की धरती पर हेलीकॉप्टर उतरते ही वहां का इतिहास बदल जाएगा।

वहीं अपनी शादी को लेकर संतोष का कहना है कि वह एक बीपीएल परिवार से ताल्लुक रखती हैं। ऐसे में इतनी वह आलीशान शादी की कल्पना भी नहीं कर सकती हैं। उन्होंने कभी सपने में भी नहीं सोचा था कि उनकी डोली हेलीकॉप्टर में विदा होगी। संतोष के मुताबिक वह अपनी खुशी को शब्दों में बंया नहीं कर पा रही हैं। बताते चलें कि संतोष के माता पिता मजदूरी करके घर चलाते हैं और संतोष की पढ़ाई का पूरा खर्च उनके स्वर्गीय ताऊ की पत्नी ओमपति उठाती हैं। ऐसे में इतने साधारण परिवार से जुड़े होने के बाद ऐसी विदाई की कल्पना करना उनके लिए मुश्किल है।


BY : Akhilesh Tiwari




Loading...




Loading...