राष्ट्रीय - स्थायी समिति की मसौदा रिपोर्ट में हुआ खुलासा- नोटबंदी से बढ़ी बेरोजगारी और घटी GDP

स्थायी समिति की मसौदा रिपोर्ट में हुआ खुलासा- नोटबंदी से बढ़ी बेरोजगारी और घटी GDP



Posted Date: 27 Aug 2018

21
View
         

नई दिल्ली। नोटबंदी पर बनी संसदीय कमेटी में शामिल बीजेपी सदस्यों ने समिति की ड्राफ्ट रिपोर्ट पर ऐतराज जताते हुए इसे मंजूर करने से रोक दिया। कांग्रेस के वीरप्पा मोइली की अध्यक्षता वाली इस कमिटी की रिपोर्ट को भाजपा सांसदों द्वारा आलोचनात्मक बताया जा रहा है। रिपोर्ट के अनुसार नोटबंदी के बाद से भारत में नकदी की कमी हुई है, जिस कारण जीडीपी में एक प्रतिशत की गिरावट आई और बेरोजगारी बढ़ी।

दरअसल, मसौदा रिपोर्ट में नोटबंदी को बड़े ही नकारात्मक तरीके से पेश किया गया है, जो जाहिर तौर पर समिति में शामिल भाजपा सदस्यों के गले नहीं उतरा। संसद की यह स्थायी समिति करीब पिछले दो साल से केंद्र के इस फैसले को परखने में लगी है। साथ ही उसने वित्त मंत्रालय के वरिष्ठ अधिकारियों और आरबीआइ के गर्वनर को इस संबंध में अपना स्पष्टीकरण देने को कहा है।

सोमवार को बीजेपी सांसद निशिकांत दुबे ने मसौदा रिपोर्ट को विरोध करते हुए संसदीय समिति के अध्यक्ष वीरप्पा मोइली को सहमति का पत्र दिया, जिसका समिति में शामिल पार्टी के सभी सांसदों ने समर्थन किया।

जरूर पढ़ेSC ने Whatsapp को लगाई फटकार, इस मामले को लेकर भेजा नोटिस

इस सदस्यीय समिति में कुल 31 सदस्य है जिसमे कांग्रेस दिग्गज नेता दिग्विजय सिंह, ज्योतिरादित्य सिंधिया तथा पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह शामिल हैं। लेकिन समिति में भाजपा सदस्य बहुमत में हैं। जिस कारण इस रिपोर्ट को बहुमत न मिलने की वजह से अस्वीकार किया गया।

ज्ञात हो कि सरकार ने आठ नवंबर 2016 को 500 और 1,000 रुपये के नोट तत्काल प्रभाव से बंद कर दिए थे। इस पहल का ब्लैकमनी पर अंकुश लगाना था।

जरूर पढ़ेशिवसेना ने दागा ऐसा सवाल जो भाजपा की साख पर पड़ सकता है भारी, दांव पर पीएम मोदी की कुर्सी!

 


BY : ANKIT SINGH


Loading...





Loading...
Loading...