राष्ट्रीय - पर्रिकर का यह एक फैसला पड़ सकता है भारी, खड़ा हो सकता है राजनीतिक संकट

पर्रिकर का यह एक फैसला पड़ सकता है भारी, खड़ा हो सकता है राजनीतिक संकट



Posted Date: 05 Feb 2019

3358
View
         

पणजी। मोदी सरकार में कई कैबिनेट मंत्री ऐसे रहे हैं, जिन्होंने अपने शानदार काम और अपनी सादगी से एक अलग मिसाल पेश की है। इस लिस्ट में एक नाम गोवा के वर्तमान मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर का भी शामिल होता है। मौजूदा समय में पर्रिकर कैंसर जैसी गंभीर बीमारी से जूझ रहे हैं और दिल्ली के एम्स में उनका इलाज चल रहा है।

इस गंभीर बीमारी के बावजूद उन्हें महत्वपूर्ण मौकों पर सदन की कार्रवाई में शामिल होते हुए देखा गया है। वहीं अब गोवा के मुख्यमंत्री की कर्मठता को लेकर गोवा विधानसभा के स्पीकर और भाजपा विधायक मिशेल लोबो का कहना है कि ‘जिस दिन मनोहर पर्रिकर ने इस्तीफा दिया या उन्हें कुछ हुआ तो भाजपा शासित गोवा सरकार में राजनीतिक संकट खड़ा हो जाएगा। जब तक वे राज्य के मुख्यमंत्री हैं, चिंता की कोई बात नहीं है।‘

लोबो ने पर्रिकर के बिगड़ते स्वास्थ्य को लेकर भी कहा है कि “उनकी हालत ज्यादा बेहतर नहीं है, लोगों के समझना चाहिए कि मुख्यमंत्री बीमार हैं। उन्हें जो बीमारी हुई है, उसका कोई इलाज नहीं है। ईश्वर की कृपा से वे अब तक हमारे साथ हैं। भगवान ने उन्हें काम करने का आशीर्वाद दिया है।“

यह भी पढ़ें : कुंभ : प्रयागराज के सामने टोक्यो और शंघाई भी पड़े फीके, इस मामले में बढ़ाया देश का गौरव

बताते चलें कि पर्रिकर की बीमारी के बारे में बीती 30 अक्टूबर को गोवा सरकार में स्वास्थ्य मंत्री रहे विश्वजीत राणें ने जानकारी दी थी। जिसके बाद से वह अपनी इस बीमारी के इलाज के लिए गोवा, मुंबई, दिल्ली और अमेरिका भी जा चुके हैं। मुख्यमंत्री पर्रिकर को पैंक्रियाटिक कैंसर है और बीमारी बढ़ने के कारण उन्हें बीती 31 जनवरी की शाम एम्स के कैंसर विभाग में भर्ती कराया गया था।  

यह भी पढ़ें : CBI की याचिका पर SC में सुनवाई आज, क्या राजीव कुमार के खिलाफ सबूत पेश कर पाएगी जांच एजेंसी?


BY : Ankit Rastogi




Loading...




Loading...