राजनीति - मोदी-शाह के इस मास्टर प्लान से विरोधी होंगे पस्त, एक झटके में मिलेगी 70 करोड़ लोगों की ताकत

मोदी-शाह के इस मास्टर प्लान से विरोधी होंगे पस्त, एक झटके में मिलेगी 70 करोड़ लोगों की ताकत



Posted Date: 06 Feb 2019

1970
View
         

नई दिल्ली। लोकसभा चुनाव 2019 का समय जैसे जैसे करीब आ रहा है, केंद्र शासित भाजपा अपने अभियान को और भी तेज करने में जुट गई है। जिससे केंद्र की सत्ता एक बार फिर से उसके हाथ में रहे। हालांकि भाजपा के साथ ही अन्य विपक्षी दल भी चुनाव की तैयारी में पूरे जोश से लगे हुए हैं। वहीं भाजपा ने अपने अपने विकास रथ और और भी ज्यादा रफ्तार देने के लिए अपना मास्टर प्लान तैयार कर लिया है। इस मास्टर प्लान के तहत भाजपा लगभग 70 करोड़ लोगों को अपने साथ जोड़ेगी। इस मास्टर प्लान को कारगर बनाने की पूरी जिम्मेदारी पीएम मोदी और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह पर होगी।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के नेतृत्व में ही इस मास्टर प्लान के तहत हर बूथ के लिए तीन व्हाट्सऐप ग्रुप बनाए जाएंगे। जिसके तहत इन लोगों को जोड़ा जाएगा। इन सभी व्हाट्सऐप ग्रुप पर पार्टी के अभियान से जुड़ी जानकारी और पोस्ट शेयर किए जाएंगे। जिसमें वीडियो, ऑडियो, टेक्स्ट, कार्टून्स और ग्राफिक्स शामिल होंगे। इस योजना पर तैयारी काफी समय पूर्व ही शुरू हो गई थी। जिसको लेकर ही पिछले साल सितंबर में पीएम मोदी पार्टी के वरिष्ठ नेताओं से मिले थे।

पीएम मोदी ने वरिष्ठ नेताओं से पीएमओ में ही मुलाकात की थी और वहां पर उन्हें इस मास्टर प्लान के बारे में जानकारी दी गई थी। इस योजना के तहत ही सभी राज्यों में बीजेपी इकाइयों से हर पोलिंग बूथ में स्मार्टफोन रखने वालों की सूची जुटाने के लिए कहा गया था। जिसके जरिए ही केंद्र शासित भाजपा की इस मास्टर प्लान को सफल बनाने की योजना है। बताते चलें कि भाजपा सोशल मीडिया के मुखिया 2019 के चुनाव को पहला व्हाट्सऐप चुनाव बता चुके हैं।

यह भी पढ़ें : दुनिया में बढ़ा भारत का कद, ISRO ने विदेशी धरती से बनाया नया कीर्तिमान

जानकारी के मुताबिक साल 2014 के लोकसभा चुनाव में भी सोशल मीडिया ने काफी अहम रोल निभाया था। जिसका पूरा फायदा उठाते हुए भाजपा ने केंद्र में सरकार बनाई थी। बीते चुनाव में देश में लगभग 21 फीसदी लोगों के पास स्मार्टफोन थे, जबकि यह आंकड़ा 2019 के लोकसभा चुनाव से पूर्व ही 39 प्रतिशत पर पहुंच चुका है। ऐसे में यह कयास लगाए जा रहा है कि एक बार फिर से सोशल मीडिया लोकसभा चुनाव की दिशा और दशा तय करने में बेहद अहम रोल निभाएगी।

यह भी पढ़ें :  राहुल गांधी को पसंद नहीं आया पीएम मोदी के लिए यह सम्मान, दे डाली इतनी बड़ी नसीहत


BY : Akhilesh Tiwari




Loading...




Loading...