राजनीति - सरकार किसी की भी बने लेकिन चुनाव बाद शुरू होगा राम मंदिर का निर्माण, इस दिग्गज नेता ने दी खुली चुनौती

सरकार किसी की भी बने लेकिन चुनाव बाद शुरू होगा राम मंदिर का निर्माण, इस दिग्गज नेता ने दी खुली चुनौती



Posted Date: 07 Feb 2019

1800
View
         

नई दिल्ली। लोकसभा चुनाव का समय करीब आते ही वर्षों से लंबित राम मंदिर का मुद्दा भी गरमा जाता है। बात चाहे बीते लोकसभा चुनाव की हो या फिर आगामी 2019 लोकसभा चुनाव की। दोनों ही चुनाव में राम मंदिर के मुद्दे को भुनाने का काम भाजपा ने किया था। लेकिन इस बार राम मंदिर के मुद्दे पर राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ प्रमुख मोहन भागवत के सुर बदले बदले नजर आ रहे हैं। मोहन भागवत ने कहा है कि लोकसभा चुनाव के बाद सरकार चाहे किसी भी बने लेकिन राम मंदिर का निर्माण शुरू होकर रहेगा।

वहीं मोहन भागवत से पहले विश्व हिंदू परिषद ने भी ऐलान किया था कि वह लोकसभा चुनाव तक के लिए ही राम मंदिर आंदोलन को रोक रहा है। मोहन भागवत ने यह बात उत्तराखंड की राजधानी देहरादून में आयोजित आरएसएस के एक कार्यक्रम के दौरान कही है। उन्होंने यहां पर राम मंदिर समेत कई मुद्दों पर लोगों के सवालों के जवाब दिए लेकिन प्रमुखता राम मंदिर मुद्दे को ही दी। उन्होंने कहा है कि कुंभ मेले में हुई धर्म संसद के मुताबिक ही मंदिर का निर्माण होगा। वहीं मोहन भागवत के बाद आरएसएस के ही एक नेता ने यह भी कहा है कि चुनाव के बाद सरकार भले ही किसी की भी बने लेकिन राम मंदिर का निर्माण शुरू करा दिया जाएगा।

हालांकि अभी मंदिर निर्माण के लिए किसी निश्चित समय का ऐलान नहीं किया गया है। लेकिन यह जरूर साफ कर दिया गया है कि राम मंदिर पर अब और ज्यादा देर नहीं होगी। बताते चलें कि अभी कुछ समय पूर्व ही प्रयागराज में चल रहे कुंभ में धर्म संसद का आयोजन भी किया गया था, जिसमें कहा गया था कि जैसे जैसे चुनाव का समय करीब आ रहा है, वैसे-वैसे विरोधी राजनीतिक ताकतें एकजुट होती जा रही हैं। लेकिन संत समाज राम जन्मभूमि मुद्दे को राजनीतिक मुद्दे में तब्दील नहीं होने देगा।

यह भी पढ़ें : एनडीएमसी ने राहुल गांधी को दिया तगड़ा झटका, वाड्रा की एंट्री ने बिगाड़ दिया खेल

वहीं इस कार्यक्रम में बोलते हुए भागवत ने कहा कि आरक्षण से उन्हें कोई दिक्कत नहीं है लेकिन इसका लाभ जाति और धर्म के आधार पर न मिलकर जरूरतमंद लोगों को मिलना चाहिए। इसके साथ ही कई अन्य मुद्दे पर भी कार्यक्रम के दौरान भागवत ने चर्चा की।  वहीं आरएसएस और विश्व हिंदू परिषद के द्वारा ऐसा बयान दिए जाने से भारतीय जनता पार्टी को भी राहत मिलती दिख रही है।

यह भी पढ़ें : मोदी-शाह के इस मास्टर प्लान से विरोधी होंगे पस्त, एक झटके में मिलेगी 70 करोड़ लोगों की ताकत


BY : Akhilesh Tiwari




Loading...




Loading...