राष्ट्रीय - शर्मनाक : भूल जाइए समाधान, कुछ ऐसे ख़त्म हुई किसानों के हक के लिए तीन लड़कियों की अनिश्चितकालीन भूख हड़ताल

शर्मनाक : भूल जाइए समाधान, कुछ ऐसे ख़त्म हुई किसानों के हक के लिए तीन लड़कियों की अनिश्चितकालीन भूख हड़ताल



Posted Date: 09 Feb 2019

5349
View
         

नई दिल्ली। महाराष्ट्र पुलिस और स्थानीय प्रशासन ने शनिवार को अहमदनगर जिले के पुंताम्बा गांव में गरीब किसानों की तीन बेटियों द्वारा पिछले छह दिनों से जारी भूख हड़ताल को जबरन तुड़वा दिया। अब इस मामले पर राजनीति तेज हो गई है।

पुलिस की एक टीम ने सुबह तड़के एक शामियाने पर धावा बोला। पुलिस यहां अपने रिश्तेदारों व समर्थकों के साथ भूख हड़ताल पर बैठीं तीन में से दो लड़िकयों, 20 वर्षीय निकिता जाधव और 19 वर्षीय पूनम जाधव, को उठाकर अहमदनगर सिविल अस्पताल ले गई।

तड़के तीन बजे पुलिस की टीम ने आंदोलन के लिए लगाए गए शामियाने, बैनर और पोस्टरों को उखाड़ फेंका, क्योंकि स्थानीय अधिकारियों ने कहा कि वे अवैध रूप से लगाए गए हैं। लड़कियों के साथ प्रदर्शन कर रहे रिश्तेदारों व समर्थकों को हिरासत में ले लिया गया, जबकि वहां मौजूद तमाशबीनों को खदेड़ दिया गया।

पुलिस की इस कार्रवाई से गुस्साए पुंताम्बा ग्रामीणों ने स्वस्फूर्त बंद आयोजित किया और 19 वर्षीय शुभांगी जाधव सहित शुक्रवार को अस्पताल ले जाई गईं लड़कियों को तुरंत रिहा करने की मांग की। बता दें कि गांव में बीते तीन दिनों के दौरान यह दूसरा बंद है।

रालेगण सिद्धि में सामाजिक कार्यकर्ता अन्ना हजारे की सप्ताह भर चली भूख हड़ताल के बाद इन तीन लड़कियों की भूख हड़ताल को कई किसान समूहों, सत्तारूढ़ सहयोगी शिवसेना और विपक्षी कांग्रेस व अन्य दलों का समर्थन प्राप्त था।

यह भी पढ़ें : ED के सामने तीसरी बार पेश हुए वाड्रा, कहा- राजनीतिक हित साधने के लिए परेशान किया जा रहा

निकिता, शुभांगी और पूनम के साथ-साथ उनके कॉलेज सहपाठियों व दोस्तों ने सभी कृषि ऋण माफ करने, कृषि उपज के लिए न्यूनतम समर्थन मूल्य, 60 वर्ष से अधिक आयु के सभी किसानों के लिए पेंशन और कृषि उद्देश्यों के लिए मुफ्त बिजली सहित किसानों की विभिन्न मांगों को लेकर चार फरवरी से अनिश्चितकालीन भूख हड़ताल शुरू की थी।

यह भी पढ़ें : PM के खिलाफ बिना इजाजत विज्ञापन में नाम का इस्तेमाल कराने का आरोप, TMC विधायक ने दर्ज कराई शिकायत

छह फरवरी को पुंताम्बा गांव में स्कूली छात्राओं और ग्रामीणों ने काले झंडे के साथ जुलूस निकाला था, जिसमें पड़ोसी गांवों के लोगों की भागीदारी देखने को मिली थी। कुछ खबरों की मानें तो लड़कियों को कथित रूप से उनकी मर्जी के खिलाफ आईसीयू में रखा गया है, लेकिन उन्होंने अपना आंदोलन जारी रखा हुआ है।


BY : Yogesh




Loading...




Loading...