आजमगढ़ - चुनाव के मद्देनज़र पूर्वांचल के इन शातिर कैदियों पर कसेगा शिंकजा, शिफ्ट किया जाएगा दूसरी जगह

चुनाव के मद्देनज़र पूर्वांचल के इन शातिर कैदियों पर कसेगा शिंकजा, शिफ्ट किया जाएगा दूसरी जगह



Posted Date: 12 Mar 2019

19
View
         

आज़मगढ़। पूर्वांचल के गुडांराज का इससे बड़ा सबूत क्या हो सकता है कि जेलों में बंद कैदी आम जनता को धमका कर रंगदारी मांगते हैं। तो कभी जेल के अंदर कैदियों की दीवाली सेलिब्रेशन की तस्वीरें वायरल हो जाती हैं। जेलों के भीतर ऐशो आराम की ज़िंदगी गुज़ारने वाले इन कैदियों के आगे प्रशासन भी बेबस नज़र आता है। लोकसभा चुनाव के मद्देनज़र इन अपराधियों को दूसरी जेलों में शिफ्ट करने का निर्णय लिया गया है।

जेल के भीतर रहते हुए अपराधियों ने कई बड़ी घटनाओं को अंजाम दिलवा दिया। घटनाओं पर गौर करें तो वर्ष 2013 में जेल के भीतर से ही ध्रुव कुमार सिंह कुंटू ने साजिश रचकर सगड़ी के पूर्व विधायक सर्वेश सिंह सीपू की हत्या करवा दी।

जेल के भीतर से ही जनवरी 2018 में बंदीरक्षक मानसिंह को गोली मार दी गई। सघन इलाज के बाद वह ठीक हो सका। जबकि अक्तूबर 2018 में अहरौला बाजार निवासी दुकानदार की हत्या करवा दी गई। जेल के भीतर से ही कई अपराधी लगातार फोन कर रंगदारी मांग रहे हैं। भयभीत कई लोग अभी भी उनके बताए हुए अड्डे पर रुपये पहुंचाकर आ रहे हैं।

जेल में निरुद्ध अपराधी धड़ल्ले से मोबाइल चला रहे हैं। इसका सबूत जेल के भीतर मना दीपावली के जश्न के समय की भेजी गई तस्वीरें रही। यह मामला उजागर होने पर आईजी जेल प्रकाश चंद्र ने डीआईजी जेल गोरखपुर रेंज से जांच की रिपोर्ट मांगी थी लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हो सकी।

लोकसभा चुनाव को देखते हुए जेल में निरुद्ध कई नेताओं और अपराधियों को दूसरी जेलों में शिफ्ट कराया जा सकता है। इनके पुरानी गतिविधियों को खंगालते हुए पुलिस सूची तैयार करा रही है। क्योंकि यह लोग जेल के भीतर रहते हुए बाहर आतंक मचाने में माहिर हैं। ऐसे में शक है कि कहीं इनके जरिए चुनाव में कोई बड़ा षड्यंत्र रचते हुए कानून व्यवस्था को प्रभावित कर सकते हैं।

पुलिस के मुताबिक अब तक जिन लोगों का नाम दूसरी जेलों में शिफ्ट कराने के लिए शामिल किया गया है, उनमें शराब माफिया एवं पूर्व विधायक सुरेंद्र मिश्रा, कांग्रेस नेता एवं अधिवक्ता के हत्या के आरोपी पूर्व मंत्री अंगद यादव, एआईएमआईएम के पूर्व जिलाध्यक्ष कलीम जामई, मुबारकपुर और रौनापार में जहरीली शराब से हुई 86 लोगों की मौत के लिए जिम्मेदार मुलायम यादव उर्फ सुरेंद्र, गनिका यादव सहित अन्य का नाम शामिल है।

यह लोग अपने मजबूत राजनीतिक पकड़ का फायदा उठाते हुए अपना गोरखधंधा चला रहे थे। इसके अलावा शार्प शूटर और गैंग लीडरों में सचिन पांडेय, धर्मेंद्र पासी, वैभव उर्फ छोटू, दिनेश भाटी, श्यामबाबू पासी आदि का नाम शामिल है। पुलिस के मुताबिक यह सभी बदमाश सुपारी लेकर जेल के भीतर से ही किसी की भी हत्या कराने का षड्यंत्र रचने में माहिर हैं।


BY : Saheefah Khan




Loading...




Loading...