राजनीति - आलोक वर्मा पर कोर्ट के फैसले को लेकर राहुल का वार, कहा- ‘अब मोदी को कोई नहीं बचा सकता’

आलोक वर्मा पर कोर्ट के फैसले को लेकर राहुल का वार, कहा- ‘अब मोदी को कोई नहीं बचा सकता’



Posted Date: 08 Jan 2019

38
View
         

नई दिल्ली। सीबीआई डायरेक्टर आलोक वर्मा पर कोर्ट के फैसले को लेकर राहुल गांधी ने पीएम नरेंद्र पर जोरदार वार किया है। कोर्ट ने सरकार द्वारा वर्मा को छुट्टी पर भेजे जाने के फैसले को पलटते हुए उनकी सीबीआई में वापसी करा दी है। मीडिया रिपोर्टस के मुताबिक, कोर्ट के फैसले के बाद कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा कि राफेल पर सीबीआई डायरेक्टर आलोक वर्मा जांच करने वाले थे।

सीबीआई चीफ को रात के एक बजे हटा दिया गया, क्योंकि वो राफेल घोटाले जांच शुरू करने वाले थे। अब उन्हें फिर से बहाल कर दिया गया है, कुछ न्याय तो जरूर हुआ, अब देखते हैं क्या होता है। उन्होंने कहा कि राफेल पर अब पीएम मोदी को कोई नहीं बचा सकता है। राहुल ने कहा कि अब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को कोई नहीं बचा सकता है।

इससे पहले आलोक वर्मा को छुट्टी पर भेजने का फैसला निरस्त करते हुए कोर्ट ने बड़ा फैसला सुनाया था। कोर्ट के इस फैसले के बाद आलोक वर्मा की सीबीआई में एक बार फिर से वापसी होना तय माना जा रहा है। हालांकि कोर्ट के आदेश के बाद भी आलोक वर्मा कोई नीतिगत फैसला नहीं ले पाएंगे। कोर्ट ने इस बात का जिक्र भी अपने फैसले में किया। आलोक वर्मा के पक्ष में फैसला आने से कोर्ट द्वारा सरकार को बड़ा झटका लगा है।

इससे पहले सीबीआई में आलोक वर्मा और राकेश अस्थाना के बीच मचे घमासान के चलते सरकार द्वारा इन दोनों ही अधिकारियों को उनके अधिकारों से वंचित करते हुए छुट्टी पर भेज दिया गया था। वर्मा ने सरकार के इस फैसले के खिलाफ कोर्ट का रुख किया था। जहां अब 75 दिनों बाद कोर्ट ने वर्मा के पक्ष में फैसला सुनाया है। कोर्ट ने सरकार का फैसला पलटते हुए उन्हें सरकार द्वारा छुट्टी पर भेजने का फैसला निरस्त करते हुए वर्मा की सीबीआई में वापसी करा दी है। कोर्ट के इस फैसले को सीबीआई के झगड़े में वर्मा की जीत के तौर पर देखा जा रहा है।

इससे पहले इस मसले पर केंद्र ने सुप्रीम कोर्ट के सामने वर्मा को उनकी जिम्मेदारियों से हटाकर अवकाश पर भेजने के अपने फैसले को सही ठहराया था और कहा था कि उनके और अस्थाना के बीच टकराव की स्थिति है जिस वजह से देश की सबसे बड़ी जांच एजेंसी जनता की नजरों में हंसी का पात्र बन रही है। अटार्नी जनरल के के वेणुगोपाल ने बेंच से कहा था केंद्र के पास हस्तक्षेप करने और दोनों अधिकारियों से शक्तियां लेकर उन्हें छुट्टी पर भेजने का अधिकार है।

यह भी पढ़ें : सवर्णों के आरक्षण को मायावती ने बताया राजनीतिक चाल, बीजेपी से किया सवाल, पहले क्यों नहीं लिया फैसला?

वहीं वर्मा का सीबीआई निदेशक के रूप में दो साल का कार्यकाल 31 जनवरी को पूरा हो रहा है। ऐसे में उन्होंने केंद्र के फैसले को चुनौती देने हुए शीर्ष अदालत का रुख किया था।

यह भी पढ़ें : MP में होगा स्पीकर का चुनाव, दिग्विजय सिंह ने लगाया भाजपा पर विधायकों की खरीद-फरोख्त का आरोप, कहा- 100 करोड़...


BY : Indresh yadav