राष्ट्रीय - सेकुलर मोर्चे ने बदले यूपी के राजनीतिक समीकरण, अखिलेश बोले- मैं कहां चला जाऊं

सेकुलर मोर्चे ने बदले यूपी के राजनीतिक समीकरण, अखिलेश बोले- मैं कहां चला जाऊं



Posted Date: 30 Aug 2018

33
View
         

लखनऊ। बीते बुधवार शिवपाल सिंह यादव ने सेकुलर मोर्चे का गठन कर यूपी की राजनीति के समीकरण काफी हद तक बदल दिए। अखिलेश यादव के सपा अध्यक्ष बनने के बाद से पार्टी में अपने घटते कद व उपेक्षा का हवाला देते हुए उन्होंने इस मोर्चे के गठन का ऐलान किया। अब उन्होंने मुलायम सिंह यादव को भी अपने मोर्चे से जल्द ही जोड़ने का दावा किया है। शिवपाल के द्वारा गठित किए गए सेकुलर मोर्चे से दो दिन पहले शिवपाल व मुलायम की हुई मुलाकात उनके इस दावे को और अधिक मजबूती प्रदान करती है। शिवपाल के मोर्चा गठित करने पर अखिलेश यादव ने प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा है कि नाराज तो मैं भी हूं, लेकिन कहां चला जाऊं।

अखिलेश ने दिया मामले पर बयान

शिवपाल यादव द्वारा सेकुलर मोर्चे का गठन करने पर सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने मामले पर बयान दिया है। उन्होंने कहा कि नाराज तो मैं भी हूं, कहां चला जाऊं। जैसे-जैसे लोकसभा चुनाव नजदीक आएगा। इस तरह की तमाम चीजें होंगी।

अखिलेश ने कहा कि असली मुद्दों से ध्यान भटकाना भाजपा की फितरत है। वे जब भी चाहते हैं कोई फिजूल का मुद्दा उठाकर लोगों का ध्यान बुनियादी मुद्दों से हटा देते हैं। पर, जनता सब समझती है। वह जवाब देगी। हालांकि उन्होंने शिवपाल के इस कदम के पीछे बीजेपी का हाथ होने पर पूरी तरह से सहमति नहीं जताई है। लेकिन उन्होंने इशारों-इशारों में यह जरुर कहा कि कल से आज तक जो कुछ भी घटित हुआ, उसे गौर से देखने पर शक तो भाजपा की तरफ ही जाता है।

मोर्चा बनाकर मुलायम सिंह यादव को सम्मान दिलाएंगे शिवपाल यादव

शिवपाल ने अपने मोर्चे के गठन के बारे में बोलते हुए कहा यह प्रदेश में सभी उपेक्षित दलों और नेताओं के लिए नया राजनीतिक विकल्प होगा। वहीं शिवपाल ने अपने बीजेपी में शामिल होने की खबरों को अफवाह बताया है। उन्होंने कहा कि वह समाजवादी पार्टी में मुलायम सिंह यादव समेत कुछ अन्य नेताओं की उपेक्षा होने से बेहद दुखी हैं। वो मोर्चे का गठन कर नेता जी को उनका सम्मान वापस दिलाएंगे। अपने बारे में बात करते हुए उन्होंने कहा कि मुझे भी पार्टी की किसी बैठक में बुलाया जाता है तो किसी में नहीं बुलाया जाता है। उन्होंने अपनी बात पर जोर देते हुए कहा कि मुझे पार्टी की जिस भी दावत में बुलाया जाता है, उसमें मैं जाता हूं, लेकिन जिसमें नहीं बुलाया जाता, उसमें नहीं जा रहा हूं।

मोर्चे के गठन का ऐलान करने से पहले शिवपाल बीजेपी की सहयोगी पार्टी सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के अध्यक्ष ओम प्रकाश राजभर से मिले थे। ऐसे में राजभर के भी शिवपाल के मोर्चे में शामिल होने की संभावना व्यक्त की जा रही है। लोकसभा चुनाव लड़ने के मामले पर बोलते हुए शिवपाल ने कहा कि इस बारे में वह मोर्चे में शामिल सभी दलों व नेताओं से बातचीत कर ही कोई फैसला लेंगे। हालांकि अभी तक शिवपाल ने समाजवादी पार्टी से अपना नाता तोड़ने का कोई ऐलान नहीं किया है। बल्कि उनका कहना है कि वह अब भी परिवार को एक रखना चाहते हैं।

यह भी पढ़ें : राफेल पर मचा घमासान, जेटली को राहुल के चैलेंज पर अमित शाह ने दिया ये जवाब

ऐसे में शिवपाल द्वारा गठित किए गए इस मोर्चे का मकसद अखिलेश यादव को पार्टी में उनकी महत्ता का अहसास दिलाने का एक प्रयास भी माना जा रहा है। सूबे की राजनीति में अपना खास स्थान रखने वाली समाजवादी पार्टी के लिए शिवपाल के द्धारा गठित किया गया यह मोर्चा मुश्किलें बढ़ा सकता है।

यह भी पढ़ें : फेक न्यूज पर सरकार का डंडा... नहीं मानी बात तो सोशल मीडिया प्रमुखों पर गिरेगी गाज


BY : INDRESH YADAV


Loading...





Loading...
Loading...