राष्ट्रीय - आखिर क्यों सरकार से नाराज़ हैं ये पैरा बैडमिंटन चैंपियन : ‘हम खेलना छोड़ देंगे, सिर्फ कोर्ट नज़र आएगा, खिलाड़ी नहीं’

आखिर क्यों सरकार से नाराज़ हैं ये पैरा बैडमिंटन चैंपियन : ‘हम खेलना छोड़ देंगे, सिर्फ कोर्ट नज़र आएगा, खिलाड़ी नहीं’



Posted Date: 08 Jan 2019

59
View
         

कहते हैं, ‘मंजिल उन्हीं को मिलती है, जिनके सपनों में जान होती है, पंख से कुछ नहीं होता, हौसलों में उड़ान होती है।’ ये पंक्तियां यूपी की राजधानी लखनऊ में रहने वाले इन दो पैरा बैडमिंटन खिलाड़ी अबु हुबैदा और शशांक के ऊपर एकदम सटीक बैठती है।

लखनऊ शहर के अबु हुबैदा (24) (व्हीलचेयर-2) कैटगरी एवं शशांक (व्हीलचेयर-1) कैटगरी के ये दिव्यांग खिलाड़ियों का सपना है अपने भारत देश का नाम रोशन करने का। लेकिन इन खिलाडियों की जीतोड़ मेहनत पर यूपी सरकार ने पानी फेर दिया है। हर खिलाड़ी खेल में अपना शत-प्रतिशत देकर देश व दुनिया के साथ अपना भी नाम रोशन करना चाहता है।

वो चाहता है कि उसको भी सम्मान व प्रोत्साहन मिले जिसका वो हकदार है। इससे उस खिलाड़ी का हौसला बढ़ जाता है। मगर इतनी मेहनत के बावजूद भी अगर उसको ये सम्मान व प्रोत्साहन न मिले तो उस खिलाड़ी के दिल पर क्या बीतती होगी? ये उससे बेहतर कौन जान सकता है। शायद ये सब कल्पना से परे व असहनीय दर्द जैसा लगता है।

जानिए कौन है ये पैरा बैडमिंटन खिलाड़ी :

एक मीडिया संस्थान से बात करते हुए, ‘कहना नहीं खुदा से मेरी मुश्किलें बड़ी हैं, हां मुश्किलों से कह दो मेरा हौसला बड़ा है’ इन पंक्तियों के साथ 24 वर्षीय अबु हुबैदा ने बताया कि वे (व्हीलचेयर-2) कैटगरी में बैडमिंटन खेलने वाले खिलाड़ी है। दूसरी तरफ, ‘विकल्प मिलेंगे बहुत मार्ग भटकाने के लिए, संकल्प एक ही काफी है मंजिल तक जाने लिए’ इन पंक्तियों के साथ शशांक ने बताया कि वे (व्हीलचेयर-1) कैटगरी के बैडमिंटन खेलने वाले खिलाड़ी है। साल 2014 में शशांक और अबु हुबैदा ने बैडमिंटन में कदम रखा था। जिसके बाद इन्होंने साल 2015 में ओपन राष्ट्रीय चैंपियनशिप चेन्नई में गोल्ड मेडल जीता था।

शशांक ने (व्हीलचेयर-1) कैटगरी बैडमिंटन में 2015 में डबल में सिल्वर मेडल जीता था। इसके बाद अच्छी परफॉमेंस में उत्तर प्रदेश के वाराणसी में साल 2018 में नेशनल चैंपियनशिप में 1 गोल्ड, 1 सिल्वर, 1 ब्रोंज मेडल जीता था। शशांक ने 2018 में सिंगल -डबल में दोनो में ब्रोंज व सिल्वर मेडल जीता है।

सपना पूरा करने के लिए सीएम योगी से लगाई मदद की गुहार :

पैरा बैडमिंटन के इन खिलाड़ियों को मेडल जीतने के बाद भी खुद का सपना अधूरा लगने लगा है क्योंकि उत्तर प्रदेश सरकार किसी भी प्रकार से इन खिलाड़ियों का हौसला नहीं बढ़ा रही है। इन दोनों का एक ही सपना है, कि 2020 में होने वाले पैरा-ओलम्पिक मैच में विजय हासिल करके देश के लिए मेडल जीत कर देश का परचम बुलंद करना। बातचीत के दौरान अबु हुबैदा ने बताया कि साल 2017 में इन्होंने दो बार मुख्यमंत्री से मदद की गुहार लगाई थी।

मगर इनको आश्वासन के सिवा कुछ नहीं दिया जाता है। सरकार इन्हें आश्वासन देकर विदा कर देती है और इनकी मदद पर कोई प्रतिक्रिया अभी तक नहीं मिली है। परंतु अभी भी इन लोगों ने उम्मीद का दामन नहीं छोड़ा है और आज भी इनको सरकार से मदद की आस है।

सरकारी मदद न मिलने पर करेंगे पलायन-

अबु हुबैदा और शशांक ने बताया है कि हमारे जैसे और भी खिलाड़ी हैं जो देश के लिए खेलना तो चाहते हैं, मगर सरकार की आंखों पर मोटा पर्दा पड़ा हुआ है और उन्हें खिलाड़ियों का हौसला दिखाई नहीं दे रहा है। कई ऐसे खिलाड़ी हैं जो बैडमिंटन खेलना बंद कर दिए हैं किसी प्रकार के मैच में नहीं खेलना चाहते हैं क्योंकि सरकार इन पर ध्यान नहीं दे रही है। इनका कहना है कि अगर सरकार हमारी तरफ भी ध्यान नहीं देगी तो हम भी खेलना बंद कर देंगे। सिर्फ बैडमिंटन कोर्ट ही दिखाई पड़ेगा मैदान में हम जैसे खिलाड़ी नहीं।

(लेखक एक अन्य मीडिया संस्थान में पत्रकार है)


BY : Yogesh