विशेष - बसंत पंचमी : कैसे प्रसन्न होंगी मां सरस्वती? इस विधि और मंत्र से मिलेगा भरपूर आशीर्वाद

बसंत पंचमी : कैसे प्रसन्न होंगी मां सरस्वती? इस विधि और मंत्र से मिलेगा भरपूर आशीर्वाद



Posted Date: 10 Feb 2019

3968
View
         

विद्या की देवी, ज्ञान की देवी मां सरस्वती की पूजा का विशेष दिवस आज है। बसंत पंचमी का त्योहार पूरे देश में मनाया जा रहा है। सभी बसंती रंग के फूलों से, बसंती रंग की मिठाई से और बसंती रंग के कपड़ों में मां सरस्वती की पूजा कर रहे हैं। पंचमी तिथि शनिवार 9 फरवरी को दिन में 8 बजकर 55 मिनट से लग रही है, जो रविवार 10 फरवरी को दिन में 9 बजकर 59 मिनट तक रहेगी। उदया तिथि ग्राह्य होने से 10 फरवरी को ही वसंत पंचमी मनाई जाएगी। ज्ञानवर्धन और एकाग्रता के लिए आप भी जानिए मां सरस्वती की पूजन विधि और मंत्र।

-मां सरस्वती की प्रतिमा अथवा तस्वीर को सामने रखकर उनके सामने धूप-दीप, अगरबत्ती, गुगुल जलाएं जिससे वातावरण में सकारात्मक उर्जा का संचार हो और आसपास से नकारात्मक ऊर्जा दूर हो जाएगी।

-प्रात:काल स्नानादि कर पीले वस्त्र धारण करें। मां सरस्वती की प्रतिमा को सामने रखें तत्पश्चात क्लश स्थापित कर भगवान गणेश और नवग्रह की विधिवत पूजा करें। फिर मां सरस्वती की पूजा करें। मां की पूजा करते समय सबसे पहले उन्हें आचमन और स्नान कराएं। फिर माता का श्रृंगार कराएं। माता श्वेत वस्त्र धारण करती हैं इसलिए उन्हें श्वेत वस्त्र पहनाएं। प्रसाद के रुप में खीर अथवा दूध से बनी मिठाईयां अर्पित करें। श्वेत फूल माता को अर्पण करें।

-कुछ क्षेत्रों में देवी की पूजा कर प्रतिमा को विसर्जित भी किया जाता है। विद्यार्थी मां सरस्वती की पूजा कर गरीब बच्चों में कलम और पुस्तकों का दान करें। संगीत से जुड़े व्यक्ति अपने साज पर तिलक लगा कर मां की आराधना करें व मां को बांसुरी भेंट करें।

इस मंत्र से प्रसन्न होंगी मां सरस्वती :

''एमम्बितमें नदीतमे देवीतमे सरस्वति! अप्रशस्ता इव स्मसि प्रशस्तिमम्ब नस्कृधि! ''

अर्थात : मातृगणो में श्रेष्ठ, देवियों में श्रेष्ठ हे ! मां सरस्वती हमें प्रशस्ति यानी ज्ञान, धन व संपति प्रदान करें।

दूसरा मंत्र :

‘सरस्वति नमस्तुभ्यं वरदे कामरूपिणि ।

विद्यारम्भं करिष्यामि सिद्धिर्भवतु मे सदा ॥’


BY : Yogesh




Loading...




Loading...