अंतरराष्ट्रीय - कांच की बनी समझकर खरीदी थी अंगूठी, 33 साल बाद हुए खुलासे ने कर दिया मालामाल

कांच की बनी समझकर खरीदी थी अंगूठी, 33 साल बाद हुए खुलासे ने कर दिया मालामाल



Posted Date: 10 Feb 2019

4183
View
         

वॉशिंगटन। कभी-कभी अजांने में हमारे हाथ ऐसी चीजें लग जाती हैं, जिनकी कीमत का अंदाजा हमें खुद नहीं होता है। हम बस उन्हें फालतू और सामान्य सी समझकर घर के कोने में फेंक देते हैं। न्यूयॉर्क में रहने वाली एक महिला के साथ भी कुछ ऐसा ही हुआ है। दरअसल यहां रहने वाली डेब्रा नाम की महिला ने 33 साल पहले एक अंगूठी को कांच की बनी समझकर खरीदा था लेकिन कई साल बीतने के बाद जब असलियत उनके सामने आई तो उनके पांव तले जमीन खिसक गई।

डेब्रा का कहना है कि उन्होंने 33 साल पहले एक अंगूठी को कांच का समझकर खरीदा था। उन्होंने इस अंगूठी के लिए मजह 925 रुपए ही अदा किए थे। उन्होंने इस अंगूठी को कांच का समझकर लगभग 15 साल तक नहीं पहना था लेकिन अचानक से उनकी मां के साथ एक ऐसी घटना घटी कि उन्हें वह अंगूठी नीलाम करने का फैसला लेना पड़ा। तब जाकर उन्हें पता चला कि यह कोई कांच की नहीं बल्कि बेशकीमती हीरे की अंगूठी थी।

दरअसल डेब्रा ने इस अंगूठी को बेचने का फैसला तब लिया, जब कुछ ठगों ने उनकी मां से सारे पैसे हथिया लिए थे। जिस पर डेब्रा मजबूर होकर एक ज्वैलरी शॉप पर गईं। जहां उन्हें यह अंदाजा था कि इस अंगूठी के कुछ रुपए तो मिल ही जाएंगे। लेकिन जब उन्हें पता चला कि उनकी अंगूठी हीरे की है तो उनकी रातों की नींद उड़ गई। इस अंगूठी की कीमत लगभग 4.7 लाख डॉलर यानी 3.3 करोड़ रुपए थी।

यह भी पढ़ें : ये है दुनिया की सबसे छोटी शादी, जानिए क्यों कुबूल है कहने के तुरंत बाद ही दुल्हन ने दे दिया तलाक

बताते चलें कि डेब्रा एक चैरिटी के लिए काम करती हैं। वह लगभग 20 बच्चों को अपने घर पर ही पाल चुकी हैं। वहीं उनकी मां के साथ हुए एक हादसे से उनके हालात कुछ बिगड़ गए थे लेकिन अंगूठी की हकीकत पता लगने के बाद उन्हें अब नींद भी नहीं आ रही है। डेब्रा का कहना है कि यह उनके अच्छे कर्मों का फल है। अंगूठी की नीलामी से मिले इन पैसों से डेब्रा ने अपनी मां के लिए कई गिफ्ट्स खरीदे हैं और साथ ही एक ज्वैलरी कंपनी भी खोली है। जिसमें छिपे हुए कीमती रत्नों की खोज की जाती है।

यह भी पढ़ें : अलग है यहां के स्कूल का नजारा, यहां पढ़ने वाले बच्चों को किताबों से पहले दिखाना होता है पासपोर्ट


BY : Akhilesh Tiwari




Loading...




Loading...